5 अय्यूब

अयूब परमेश्वर के साथ घनिष्ठ संगति का आनंद लेता है। वह अपने घमंडी पिता परमेश्वर के सामने शैतान को ठगने के लिए खड़ा है और परमेश्वर को एक नए प्रकाश में देखने को मिलता है।

अय्यूब - आग के माध्यम से विश्वास

  • अय्यूब पढ़ना (1-42)

  • उद्देश्यों

  • अय्यूब – बाइबिल में कालानुक्रमिक जगह

  • अय्यूब – लेखक

  • बहुतायत में अय्यूब का रवैया

  • खालीपन में अय्यूब का रवैया

  • यहोवा की बड़ी तस्वीर

  • विचार-विमर्श

उद्देश्यों

समझते हैं कि:

  • कैसे अय्यूब विजयी भयानक लालच था

  • कैसे वह बुरे समय और अच्छे समय संभाल किया

  • यहोवा का एक बड़ा परिप्रेक्ष्य मिलता

अय्यूब - बाइबिल में कालानुक्रमिक जगह

कब अय्यूब की किताब लिखा गया था ?

  • प्रारंभिक शास्त्रों मौखिक रूप से नीचे सौंप दिया गया

  • ई.पू. 2000-1500 – अय्यूब, प्रारंभिक संस्करण, शायद सबसे पुराना

  • ई.पू. 1500-1400 – दस आज्ञाओं को माउंट सिनाई पर मूसा को दी और बाद में वाचा का सन्दूक में संग्रहीत।

  • ई.पू. 1400-400 – 39 पुराने नियम की पुस्तकों पूरा कर रहे हैं । डेरे में और बाद में वाचा का सन्दूक के पास मंदिर में रखा

समय के साथ मृत्यु पर उम्र की गिरावट

अय्यूब का रवैया

बहुतायत में:

  • पवित्रता और सच्चाई

  • यहोवा के सम्मुख

खालीपन में:

  • विश्वास की प्रार्थना

  • विरोध प्रदर्शन

यहोवा की बड़ी तस्वीर

यहोवा के उपस्थिति

अय्यूब – अध्याय 29:2 भला होता, कि मेरी दशा बीते हुए महीनों की सी होती, जिन दिनों में ईश्वर मेरी रक्षा करता था, 
3 जब उसके दीपक का प्रकाश मेरे सिर पर रहता था, और उस से उजियाला पाकर मैं अन्धेरे में चलता था। 
4 वे तो मेरी जवानी के दिन थे, जब ईश्वर की मित्रता मेरे डेरे पर प्रगट होती थी। 
5 उस समय तक तो सर्वशक्तिमान मेरे संग रहता था, और मेरे लड़के-बाले मेरे चारों ओर रहते थे। 
6 तब मैं अपने पगों को मलाई से धोता था और मेरे पास की चट्टानों से तेल की धाराएं बहा करती थीं। 

पवित्रता और सच्चाई

अय्यूब 6: 29 फिर कुछ अन्याय न होने पाए; फिर इस मुक़द्दमे में मेरा धर्म ज्यों का त्यों बना है, मैं सत्य पर हूँ। 30 क्या मेरे वचनों में कुछ कुटिलता है? क्या मैं दुष्टता नहीं पहचान सकता?

पवित्रता और सच्चाई

अय्यूब 31:1 मैं ने अपनी आंखों के विषय वाचा बान्धी है, फिर मैं किसी कुंवारी पर क्योंकर आंखें लगाऊं
2 क्योंकि ईश्वर स्वर्ग से कौन सा अंश और सर्वशक्तिमान ऊपर से कौन सी सम्पत्ति बांटता है? 

6  तो मैं धर्म के तराजू में तौला जाऊं, ताकि ईश्वर मेरी खराई को जान ले।

पवित्रता और सच्चाई

अय्यूब 31:1 मैं ने अपनी आंखों के विषय वाचा बान्धी है, फिर मैं किसी कुंवारी पर क्योंकर आंखें लगाऊं
2 क्योंकि ईश्वर स्वर्ग से कौन सा अंश और सर्वशक्तिमान ऊपर से कौन सी सम्पत्ति बांटता है? 

6  तो मैं धर्म के तराजू में तौला जाऊं, ताकि ईश्वर मेरी खराई को जान ले।

हम अपने विचारों को कैसे नियंत्रित करते हैं? हमारे विचारों को नियंत्रित करने के परिणाम क्या हैं?

विश्वास की प्रार्थना

अय्यूब 1:20 तब अय्यूब उठा, और बागा फाड़, सिर मुंड़ाकर भूमि पर गिरा और दण्डवत् कर के कहा, 
21 मैं अपनी मां के पेट से नंगा निकला और वहीं नंगा लौट जाऊंगा; यहोवा ने दिया और यहोवा ही ने लिया; यहोवा का नाम धन्य है। 
22 इन सब बातों में भी अय्यूब ने न तो पाप किया, और न परमेश्वर पर मूर्खता से दोष लगाया।

विश्वास की प्रार्थना

अय्यूब 28:1 चांदी की खानि तो होती है, और सोने के लिये भी स्थान होता है जहां लोग ताते हैं

अय्यूब 23:10 परन्तु वह जानता है, कि मैं कैसी चाल चला हूँ; और जब वह मुझे ता लेगा तब मैं सोने के समान निकलूंगा

अय्यूब 28:28 तब उस न मनुष्य से कहा, देख, प्रभु का भय मानना यही बुद्धि है: और बुराई से दूर रहना यही समझ है।

अय्यूब 13:15 वह मुझे घात करेगा, मुझे कुछ आशा नहीं; तौभी मैं अपनी चाल चलन का पक्ष लूंगा। 16 और यह भी मेरे बचाव का कारण होगा, कि भक्तिहीन जन उसके साम्हने नहीं जा सकता।

अय्यूब 19:25 मुझे तो निश्चय है, कि मेरा छुड़ाने वाला जीवित है, और वह अन्त में पृथ्वी पर खड़ा होगा। 

अय्यूब सवाल पूछती है

अय्यूब 9:32 क्योंकि वह मेरे तुल्य मनुष्य नहीं है कि मैं उस से वादविवाद कर सकूं, और हम दोनों एक दूसरे से मुक़द्दमा लड़ सकें। 33 हम दोनों के बीच कोई बिचवई नहीं है, जो हम दोंनों पर अपना हाथ रखे। वह अपना सोंटा मुझ पर से दूर करे 

यहोवा के जवाब

अय्यूब 38:1 तब यहोवा ने अय्यूब को आँधी में से यूं उत्तर दिया, 
2 यह कौन है जो अज्ञानता की बातें कहकर युक्ति को बिगाड़ना चाहता है
3 पुरुष की नाईं अपनी कमर बान्ध ले, क्योंकि मैं तुझ से प्रश्न करता हूँ, और तू मुझे उत्तर दे। 
4 जब मैं ने पृथ्वी की नेव डाली, तब तू कहां था? यदि तू समझदार हो तो उत्तर दे।

यहोवा की बड़ी तस्वीर

अय्यूब 40:15 उस जलगज को देख, जिस को मैं ने तेरे साथ बनाया है, वह बैल की नाईं घास खाता है। 
16 देख उसकी कटि में बल है, और उसके पेट के पट्ठों में उसकी सामर्थ्य रहती है। 
17 वह अपनी पूंछ को देवदार की नाईं हिलाता है; उसकी जांघों की नसें एक दूसरे से मिली हुई हैं। 
18 उसकी हड्डियां मानो पीतल की नलियां हैं, उसकी पसुलियां मानो लोहे के बेंड़े हैं।

यहोवा की बड़ी तस्वीर

अय्यूब 40:19 वह ईश्वर का मुख्य कार्य है; जो उसका सिरजनहार हो उसके निकट तलवार ले कर आए! 
22 छतनार वृक्ष उस पर छाया करते हैं, वह नाले के बेंत के वृक्षों से घिरा रहता है। 
23 चाहे नदी की बाढ़ भी हो तौभी वह न घबराएगा, चाहे यरदन भी बढ़ कर उसके मुंह तक आए परन्तु वह निर्भय रहेगा। 
24 जब वह चौकस हो तब क्या कोई उसको पकड़ सकेगा, वा फन्दे लगा कर उसको नाथ सकेगा?

यहोवा की बड़ी तस्वीर

अय्यूब 41:1 फिर क्या तू लिब्यातान अथवा मगर को बंसी के द्वारा खींच सकता है, वा डोरी से उसकी जीभ दबा सकता है? 
2 क्या तू उसकी नाक में नकेल लगा सकता वा उसका जबड़ा कील से बेध सकता है? 

10 कोई ऐसा साहसी नहीं, जो उसको भड़काए; फिर ऐसा कौन है जो मेरे साम्हने ठहर सके?

यहोवा की बड़ी तस्वीर

अय्यूब 41:18 फिर उसके छींकने से उजियाला चमक उठता है, और उसकी आंखें भोर की पलकों के समान हैं। 
19 उसके मुंह से जलते हुए पलीते निकलते हैं, और आग की चिनगारियां छूटती हैं। 
20 उसके नथुनों से ऐसा धुआं निकलता है, जैसा खौलती हुई हांड़ी और जलते हुए नरकटों से। 
21 उसकी सांस से कोयले सुलगते, और उसके मुंह से आग की लौ निकलती है। 

अयूब का जवाब

अय्यूब 42:5 मैं कानों से तेरा समाचार सुना था, परन्तु अब मेरी आंखें तुझे देखती हैं; 
6 इसलिये मुझे अपने ऊपर घृणा आती है, और मैं धूलि और राख में पश्चात्ताप करता हूँ।

ईश्वर हमारे दुख के माध्यम से बड़ा लग रहा है । हमारे दुख छोटी लगती है।

विचार-विमर्श

1.अय्यूब पाप नहीं था, लेकिन वह गलती है। क्या उसकी गलती थी?

2.अपने दोस्तों के पाप क्या था?

3.हम आज इन समस्याओं का सामना करना पड़ कैसे जोखिम है?

4.हम किन तरीकों से यहोवा हमारे कार्यों से छोटे बनाते हैं?

References

1.Christianity.about.com

2.Zondervan

Related Posts

1. पुराना नियम सारांश

पुराने नियम हमारे लिए क्यों महत्वपूर्ण हैं? तीमुथियुस ने ज़ोर देकर कहा कि "सभी धर्मग्रन्थ ईश्वर की सांस हैं। विषय और उद्देश्य की एकता इसे ईश्वर का जीवित शब्द बनाती है। Why is the Old Testament important to us? Timothy emphasizes that “All Scripture is God-breathed.”...

2 आदम – गिरा हुआ विश्वास

परमेश्वर का एक शब्द, दुनिया पैदा हुई थी। ईश्वर की नजर में सृष्टि अच्छी थी।समझ लेना : गिरावट के परिणामों  शैतान की योजना  यहोवा का प्रेम  दुख की समस्या  यहोवा की छिपा आश्चर्य  गिरावट से पहले : उत्तम राज  उत्तम एकता  उत्तम परिस्थिति  उत्तम आनंद  उत्तम प्रवेश  उत्तम...

3 नूह, जीवित रहने का विश्वास

जैसे-जैसे पृथ्वी की आबादी बढ़ती है, हत्या, वासना और बुराई फैलती है। चेतावनी पूरी दुनिया को सुनाई देती है लेकिन केवल नूह और उसके परिवार को बचाया जाता है। उत्पत्ति 4-9 उद्देश्य समय कुछ अच्छे पुरुषों पहली चेतावनी नूह पकड़े तेजी से भगवान के वचन नूह परमेश्वर की चेतावनी...

4 बाबुल – उलझन की स्थिति में दुनिया

दुनिया को बचाने के बाद, नूह खुद एक गलती करता है। बाद में, परमेश्वर को एईश्वरविहीन दुनिया को नियंत्रण में लाना होगा। उद्देश्यों मापदंड गिरने बाबुल बढ़ रही है यहोवा को नियंत्रित विचार-विमर्श खतरे को समझते हैं: स्वयं धर्मी और अति आत्मविश्वास आत्म उमंग यहोवा का उद्देश्यों...

6 इब्राहीम – बढ़ते विश्वास

परमेश्वर ने इब्राहीम को राष्ट्र इज़राइल के लिए पुकारा, दुनिया खतरे और बढ़ती है। मूर्ति पूजा भी बढ़ती है। अब्राहम का विश्वास बहुत मजबूत हो गया। पूर्व पीठिका यात्रा विश्वास चार्ट अब्राहम और लूत के मुक़ाबले यहोवा अपने वादे को पूरा विचार-विमर्श इब्राहीम की बढ़ रही विश्वास...

7 इसहाक – निर्भर विश्वास

इसहाक अपने पिता के विश्वास और आशीर्वाद पर सवार है। जबकि वह कुछ हद तक विरासत को आगे बढ़ाता है, हमें शालीनता दिखाई देती है।यहोवा के प्रदान के मूल्य पहचान अच्छी ख़ज़ांची होना प्राप्त करते हैं और उनकी मृत्यु पत्र का बँटनाइसहाक ने अपने पिता के विश्वास पर सवारी कर रहा है।...

8 याकूब – पकड़ विश्वास

याकूब और उसके बच्चे इस्राएल और उसके बारह जनजातियों का प्रतिनिधित्व करते हैं। परमेश्वर उसे विश्वास के मार्ग में प्रशिक्षित करना है। याकूब की नींव को समझने हमारे उद्देश्य और मार्गदर्शन पर स्पष्ट हो उत्पत्ति 25-35 याकूब की कहानी याकूब की नींव विचार-विमर्श लड़ाई की भावना...

9 यूसुफ – अटूट विश्वास

यूसुफ दुनिया के दूसरे सबसे शक्तिशाली व्यक्ति हैं। जैसा कि परमेश्वर उसके साथ है, हार जीत बन जाती है।समझने नेताओं के लिए यहोवा के प्रशिक्षण जमीन कैसे यूसुफ विपरीत परिस्थितियों में जीता प्रेमपात्र से गड्ढा को पोतीपर को जेल को महल में यूसुफ उसके माता-पिता की प्रेमपात्र...

10 यहोवा के कार्यकलाप

परमेश्वर हमारे जीवन में सक्रिय रूप से भाग ले रहे हैं। बाइबल को देखते हुए हम परमेश्वर की सक्रिय भागीदारी के विशिष्ट उदाहरण देखते हैं। समझने: कैसे परमेश्वर हमारे जीवन में सक्रिय है परमेश्वर के गुणों परमेश्वर के गहरी उत्पत्ति में परमेश्वर की गतिविधि हमारी जिम्मेदारी...

11 यीशु के कार्यकलाप

हमने पूरे बाइबिल में यहोवा की गतिविधि देखी है। क्या यीशु पुराने नियम में शामिल था? हम कैसे जानते हैं कि वह यीशु था? वह क्या संदेश देता है? उत्पत्ति में मसीह की भूमिका उत्पत्ति में यीशु क्या संचार करता है यीशु ने आज क्या संचार करता है  यूहन्ना 1:18 परमेश्वर को...

12 मूसा – नम्र विश्वास

मिस्र में जन्मे, मूसा परमेश्वर की आँखों में सुंदर है। वह सांसारिक ज्ञान, शक्ति और धन के साथ-साथ आध्यात्मिक शक्ति और धन का भी सबसे अच्छा अनुभव करता है। फिर भी वह सारी पृथ्वी पर सबसे विनम्र है। मूसा के लिए परमेश्वर की तैयारी को समझने विनम्रता के महत्व को समझने हमारे...

13 इस्राएल – आत्मा की दुबलापन

हर कोई सांसारिक समृद्धि चाहता है। कुछ आत्मा की समृद्धि चाहते हैं। परमेश्वर के चुने हुए लोग होने के बावजूद, इज़राइल आत्मा के दुबलेपन से ग्रस्त है।समझने: आत्मा की समृद्धि का अर्थ आत्मा की पतलापन का अर्थ हम अपने जीवन में आत्मा की समृद्धि का आनंद ले सकते हैं भजन 78 -...

14 यहोवा की आज्ञाओं

क्या आज पुराना नियम कानून प्रासंगिक है? यीशु का कहना है कि वह कानून को खत्म करने के लिए नहीं, बल्कि इसे पूरा करने के लिए आया था।कानूनों को तीन भागों में विभाजित किया गया था नैतिक और आध्यात्मिक कानूनों नागरिक कानूनों उत्सव-संबंधी कानूनों  निर्गमन 20:3 तू मुझे छोड़...