11 यीशु के कार्यकलाप

हमने पूरे बाइबिल में यहोवा की गतिविधि देखी है। क्या यीशु पुराने नियम में शामिल था? हम कैसे जानते हैं कि वह यीशु था? वह क्या संदेश देता है?

यीशु के कार्यकलाप - सारांश

  • उत्पत्ति में मसीह की भूमिका

  • उत्पत्ति में यीशु क्या संचार करता है

  • यीशु ने आज क्या संचार करता है

 

यूहन्ना 1:18 परमेश्वर को किसी ने कभी नहीं देखा, एकलौता पुत्र जो पिता की गोद में हैं, उसी ने उसे प्रगट किया॥

 

पुराना नियम में परमेश्वर के भौतिक रूप यीशु के प्रतीत होते हैं

 

कौन आदम के साथ चला गया?

उत्पत्ति 3:8 तब यहोवा परमेश्वर जो दिन के ठंडे समय बाटिका में फिरता था उसका शब्द उन को सुनाई दिया। तब आदम और उसकी पत्नी बाटिका के वृक्षों के बीच यहोवा परमेश्वर से छिप गए। 9तब यहोवा परमेश्वर ने पुकार कर आदम से पूछा, तू कहां है?

कौन आदम के साथ चला गया?

उत्पत्ति 3:21 और यहोवा परमेश्वर ने आदम और उसकी पत्नी के लिये चमड़े के अंगरखे बना कर उन को पहिना दिए। 22फिर यहोवा परमेश्वर ने कहा, मनुष्य भले बुरे का ज्ञान पाकर हम में से एक के समान हो गया है: इसलिये अब ऐसा न हो, कि वह हाथ बढ़ा कर जीवन के वृक्ष का फल भी तोड़ के खा ले और सदा जीवित रहे। 23तब यहोवा परमेश्वर ने उसको अदन की बाटिका में से निकाल दिया कि वह उस भूमि पर खेती करे जिस में से वह बनाया गया था।

कौन है वंश?

उत्पत्ति 3:15 और मैं तेरे और इस स्त्री के बीच में, और तेरे वंश और इसके वंश के बीच में बैर उत्पन्न करुंगा, वह तेरे सिर को कुचल डालेगा, और तू उसकी एड़ी को डसेगा।

कौन है मेल्कीसेदेक?

उत्पत्ति 14:17 जब वह कदोर्लाओमेर और उसके साथी राजाओं को जीत कर लौटा आता था तब सदोम का राजा शावे नाम तराई में, जो राजा की भी कहलाती है, उससे भेंट करने के लिये आया। 18 जब शालेम का राजा मेल्कीसेदेक, जो परमप्रधान ईश्वर का याजक था, रोटी और दाखमधु ले आया। 

कौन है मेल्कीसेदेक?

उत्पत्ति14:19 और उसने अब्राम को यह आशीर्वाद दिया, कि परमप्रधान ईश्वर की ओर से, जो आकाश और पृथ्वी का अधिकारी है, तू धन्य हो। 20 और धन्य है परमप्रधान ईश्वर, जिसने तेरे द्रोहियों को तेरे वश में कर दिया है। तब अब्राम ने उसको सब का दशमांश दिया। 

कौन है मेल्कीसेदेक?

इब्रानियों 6:20 जहां यीशु मलिकिसिदक की रीति पर सदा काल का महायाजक बन कर, हमारे लिये अगुआ की रीति पर प्रवेश हुआ है॥

 

इब्रानियों 7:2 यह पहिले अपने नाम के अर्थ के अनुसार, धर्म का राजा, और फिर शालेम अर्थात शांति का राजा है। 3 जिस का न पिता, न माता, न वंशावली है, जिस के न दिनों का आदि है और न जीवन का अन्त है; परन्तु परमेश्वर के पुत्र के स्वरूप ठहरा॥ 4 अब इस पर ध्यान करो कि यह कैसा महान था जिस को कुलपति इब्राहीम ने अच्छे से अच्छे माल की लूट का दसवां अंश दिया

हाजिरा को किसने शान्ति दिया?

उत्पत्ति 16:10 और यहोवा के दूत ने उससे कहा, मैं तेरे वंश को बहुत बढ़ाऊंगा, यहां तक कि बहुतायत के कारण उसकी गणना न हो सकेगी। 
11 और यहोवा के दूत ने उससे कहा, देख तू गर्भवती है, और पुत्र जनेगी, सो उसका नाम इश्माएल रखना; क्योंकि यहोवा ने तेरे दु:ख का हाल सुन लिया है। 
12 और वह मनुष्य बनैले गदहे के समान होगा उसका हाथ सबके विरुद्ध उठेगा, और सब के हाथ उसके विरुद्ध उठेंगे; और वह अपने सब भाई बन्धुओं के मध्य में बसा रहेगा। 
13 तब उसने यहोवा का नाम जिसने उससे बातें की थीं, अत्ताएलरोई रखकर कहा कि, क्या मैं यहां भी उसको जाते हुए देखने पाई जो मेरा देखनेहारा है

इब्राहीम से किसने बात की?

उत्पत्ति 18:13 तब यहोवा ने इब्राहीम से कहा, सारा यह कहकर क्योंहंसी, कि क्या मेरे, जो ऐसी बुढिय़ा हो गई हूं, सचमुच एक पुत्र उत्पन्न होगा? 14 क्या यहोवा के लिये कोई काम कठिन है? नियत समय में, अर्थात वसन्त ऋतु में, मैं तेरे पास फिर आऊंगा, और सारा के पुत्र उत्पन्न होगा।

उत्पत्ति 18:17 तब यहोवा ने कहा, यह जो मैं करता हूं सो क्या इब्राहीम से छिपा रखूं? 18 इब्राहीम से तो निश्चय एक बड़ी और सामर्थी जाति उपजेगी, और पृथ्वी की सारी जातियां उसके द्वारा आशीष पाएंगी। 

कौन बलिदान बंद कर दिया?

इब्राहीम के त्याग और मसीह के बलिदान के बीच समानता क्या हैं?

उत्पत्ति 22:2 उसने कहा, अपने पुत्र को अर्थात अपने एकलौते पुत्र इसहाक को, जिस से तू प्रेम रखता है, संग ले कर मोरिय्याह देश में चला जा, और वहां उसको एक पहाड़ के ऊपर जो मैं तुझे बताऊंगा होमबलि करके चढ़ा।

3 सो इब्राहीम बिहान को तड़के उठा और अपने गदहे पर काठी कसकर अपने दो सेवक, और अपने पुत्र इसहाक को संग लिया, और होमबलि के लिये लकड़ी चीर ली; तब कूच करके उस स्थान की ओर चला, जिसकी चर्चा परमेश्वर ने उससे की थी।

कौन बलिदान बंद कर दिया?

उत्पत्ति 22:4 तीसरे दिन इब्राहीम ने आंखें उठा कर उस स्थान को दूर से देखा।

5 और उसने अपने सेवकों से कहा गदहे के पास यहीं ठहरे रहो; यह लड़का और मैं वहां तक जा कर, और दण्डवत करके, फिर तुम्हारे पास लौट आऊंगा।

6 सो इब्राहीम ने होमबलि की लकड़ी ले अपने पुत्र इसहाक पर लादी, और आग और छुरी को अपने हाथ में लिया; और वे दोनों एक साथ चल पड़े।

7 इसहाक ने अपने पिता इब्राहीम से कहा, हे मेरे पिता; उसने कहा, हे मेरे पुत्र, क्या बात है उसने कहा, देख, आग और लकड़ी तो हैं; पर होमबलि के लिये भेड़ कहां है?

8 इब्राहीम ने कहा, हे मेरे पुत्र, परमेश्वर होमबलि की भेड़ का उपाय आप ही करेगा

9 सो वे दोनों संग संग आगे चलते गए। और वे उस स्थान को जिसे परमेश्वर ने उसको बताया था पहुंचे; तब इब्राहीम ने वहां वेदी बनाकर लकड़ी को चुन चुनकर रखा, और अपने पुत्र इसहाक को बान्ध के वेदी पर की लकड़ी के ऊपर रख दिया

10 और इब्राहीम ने हाथ बढ़ाकर छुरी को ले लिया कि अपने पुत्र को बलि करे।

11 तब यहोवा के दूत ने स्वर्ग से उसको पुकार के कहा, हे इब्राहीम, हे इब्राहीम; उसने कहा, देख, मैं यहां हूं।

12 उसने कहा, उस लड़के पर हाथ मत बढ़ा, और न उससे कुछ कर: क्योंकि तू ने जो मुझ से अपने पुत्र, वरन अपने एकलौते पुत्र को भी, नहीं रख छोड़ा; इस से मैं अब जान गया कि तू परमेश्वर का भय मानता है।

13 तब इब्राहीम ने आंखे उठाई, और क्या देखा, कि उसके पीछे एक मेढ़ा अपने सींगो से एक झाड़ी में बंझा हुआ है: सो इब्राहीम ने जाके उस मेंढ़े को लिया, और अपने पुत्र की सन्ती होमबलि करके चढ़ाया।

14 और इब्राहीम ने उस स्थान का नाम यहोवा यिरे रखा: इसके अनुसार आज तक भी कहा जाता है, कि यहोवा के पहाड़ पर उपाय किया जाएगा।

15 फिर यहोवा के दूत ने दूसरी बार स्वर्ग से इब्राहीम को पुकार के कहा,

16 यहोवा की यह वाणी है, कि मैं अपनी ही यह शपथ खाता हूं, कि तू ने जो यह काम किया है कि अपने पुत्र, वरन अपने एकलौते पुत्र को भी, नहीं रख छोड़ा;

17 इस कारण मैं निश्चय तुझे आशीष दूंगा; और निश्चय तेरे वंश को आकाश के तारागण, और समुद्र के तीर की बालू के किनकों के समान अनगिनित करूंगा, और तेरा वंश अपने शत्रुओं के नगरों का अधिकारी होगा:

कौन याकूब के साथ लड़ा?

उत्पत्ति 32:24 और याकूब आप अकेला रह गया; तब कोई पुरूष आकर पह फटने तक उससे मल्लयुद्ध करता रहा।

25 जब उसने देखा, कि मैं याकूब पर प्रबल नहीं होता, तब उसकी जांघ की नस को छूआ; सो याकूब की जांघ की नस उससे मल्लयुद्ध करते ही करते चढ़ गई।

26 तब उसने कहा, मुझे जाने दे, क्योंकि भोर हुआ चाहता है; याकूब ने कहा जब तक तू मुझे आशीर्वाद न दे, तब तक मैं तुझे जाने न दूंगा।

27 और उसने याकूब से पूछा, तेरा नाम क्या है? उसने कहा याकूब।

28 उसने कहा तेरा नाम अब याकूब नहीं, परन्तु इस्राएल होगा, क्योंकि तू परमेश्वर से और मनुष्यों से भी युद्ध कर के प्रबल हुआ है।

मसीह में पूरी वादा

उत्पत्ति में हम मसीह के रूप में देखते हैं:

  • आदम बीज जो शैतान हार जाएगा – उत्पत्ति 3

  • एक उद्धारकर्ता , जिन्होंने हमारे लिए अपना जीवन बलिदान – उत्पत्ति 22

  • परमेश्वर के बेटे हैं, जो परमेश्वर के राज्य में संयुक्त पुत्रत्व सक्षम बनाता है – उत्पत्ति 14:17-20

  • पवित्र आत्मा है जो हमें लाने के लिए झगड़े करता है

  • पवित्र आत्मा है जो खो दिया है दुनिया को बचाने के लिए कोशिश कर रहा है

  • परमेश्वर के बराबर, दशमांश प्राप्त करता है, लड़ाई जीतता है, आशीर्वाद देता है, आदि

 

जब आदमी विफल रहता है,

तब परमेश्वर की विजयी है,

क्या आदमी को मारता है,

परमेश्वर दुबारा बनाता है

विचार-विमर्श

हिस्सा कैसे परमेश्वर से आप मदद मिली है:

  • उद्धारक के द्वारा

  • परमेश्वर के बेटे आप के साथ अपनी विरासत को बांटने के द्वारा

  • पवित्र आत्मा के द्वारा

References

Related Posts

1. पुराना नियम सारांश

पुराने नियम हमारे लिए क्यों महत्वपूर्ण हैं? तीमुथियुस ने ज़ोर देकर कहा कि "सभी धर्मग्रन्थ ईश्वर की सांस हैं। विषय और उद्देश्य की एकता इसे ईश्वर का जीवित शब्द बनाती है। Why is the Old Testament important to us? Timothy emphasizes that “All Scripture is God-breathed.”...

2 आदम – गिरा हुआ विश्वास

परमेश्वर का एक शब्द, दुनिया पैदा हुई थी। ईश्वर की नजर में सृष्टि अच्छी थी।समझ लेना : गिरावट के परिणामों  शैतान की योजना  यहोवा का प्रेम  दुख की समस्या  यहोवा की छिपा आश्चर्य  गिरावट से पहले : उत्तम राज  उत्तम एकता  उत्तम परिस्थिति  उत्तम आनंद  उत्तम प्रवेश  उत्तम...

3 नूह, जीवित रहने का विश्वास

जैसे-जैसे पृथ्वी की आबादी बढ़ती है, हत्या, वासना और बुराई फैलती है। चेतावनी पूरी दुनिया को सुनाई देती है लेकिन केवल नूह और उसके परिवार को बचाया जाता है। उत्पत्ति 4-9 उद्देश्य समय कुछ अच्छे पुरुषों पहली चेतावनी नूह पकड़े तेजी से भगवान के वचन नूह परमेश्वर की चेतावनी...

4 बाबुल – उलझन की स्थिति में दुनिया

दुनिया को बचाने के बाद, नूह खुद एक गलती करता है। बाद में, परमेश्वर को एईश्वरविहीन दुनिया को नियंत्रण में लाना होगा। उद्देश्यों मापदंड गिरने बाबुल बढ़ रही है यहोवा को नियंत्रित विचार-विमर्श खतरे को समझते हैं: स्वयं धर्मी और अति आत्मविश्वास आत्म उमंग यहोवा का उद्देश्यों...

5 अय्यूब – आग के माध्यम से विश्वास

अयूब परमेश्वर के साथ घनिष्ठ संगति का आनंद लेता है। वह अपने घमंडी पिता परमेश्वर के सामने शैतान को ठगने के लिए खड़ा है और परमेश्वर को एक नए प्रकाश में देखने को मिलता है। अय्यूब पढ़ना (1-42) उद्देश्यों अय्यूब - बाइबिल में कालानुक्रमिक जगह अय्यूब - लेखक बहुतायत में अय्यूब...

6 इब्राहीम – बढ़ते विश्वास

परमेश्वर ने इब्राहीम को राष्ट्र इज़राइल के लिए पुकारा, दुनिया खतरे और बढ़ती है। मूर्ति पूजा भी बढ़ती है। अब्राहम का विश्वास बहुत मजबूत हो गया। पूर्व पीठिका यात्रा विश्वास चार्ट अब्राहम और लूत के मुक़ाबले यहोवा अपने वादे को पूरा विचार-विमर्श इब्राहीम की बढ़ रही विश्वास...

7 इसहाक – निर्भर विश्वास

इसहाक अपने पिता के विश्वास और आशीर्वाद पर सवार है। जबकि वह कुछ हद तक विरासत को आगे बढ़ाता है, हमें शालीनता दिखाई देती है।यहोवा के प्रदान के मूल्य पहचान अच्छी ख़ज़ांची होना प्राप्त करते हैं और उनकी मृत्यु पत्र का बँटनाइसहाक ने अपने पिता के विश्वास पर सवारी कर रहा है।...

8 याकूब – पकड़ विश्वास

याकूब और उसके बच्चे इस्राएल और उसके बारह जनजातियों का प्रतिनिधित्व करते हैं। परमेश्वर उसे विश्वास के मार्ग में प्रशिक्षित करना है। याकूब की नींव को समझने हमारे उद्देश्य और मार्गदर्शन पर स्पष्ट हो उत्पत्ति 25-35 याकूब की कहानी याकूब की नींव विचार-विमर्श लड़ाई की भावना...

9 यूसुफ – अटूट विश्वास

यूसुफ दुनिया के दूसरे सबसे शक्तिशाली व्यक्ति हैं। जैसा कि परमेश्वर उसके साथ है, हार जीत बन जाती है।समझने नेताओं के लिए यहोवा के प्रशिक्षण जमीन कैसे यूसुफ विपरीत परिस्थितियों में जीता प्रेमपात्र से गड्ढा को पोतीपर को जेल को महल में यूसुफ उसके माता-पिता की प्रेमपात्र...

10 यहोवा के कार्यकलाप

परमेश्वर हमारे जीवन में सक्रिय रूप से भाग ले रहे हैं। बाइबल को देखते हुए हम परमेश्वर की सक्रिय भागीदारी के विशिष्ट उदाहरण देखते हैं। समझने: कैसे परमेश्वर हमारे जीवन में सक्रिय है परमेश्वर के गुणों परमेश्वर के गहरी उत्पत्ति में परमेश्वर की गतिविधि हमारी जिम्मेदारी...

11 यीशु के कार्यकलाप

हमने पूरे बाइबिल में यहोवा की गतिविधि देखी है। क्या यीशु पुराने नियम में शामिल था? हम कैसे जानते हैं कि वह यीशु था? वह क्या संदेश देता है? उत्पत्ति में मसीह की भूमिका उत्पत्ति में यीशु क्या संचार करता है यीशु ने आज क्या संचार करता है  यूहन्ना 1:18 परमेश्वर को...

12 मूसा – नम्र विश्वास

मिस्र में जन्मे, मूसा परमेश्वर की आँखों में सुंदर है। वह सांसारिक ज्ञान, शक्ति और धन के साथ-साथ आध्यात्मिक शक्ति और धन का भी सबसे अच्छा अनुभव करता है। फिर भी वह सारी पृथ्वी पर सबसे विनम्र है। मूसा के लिए परमेश्वर की तैयारी को समझने विनम्रता के महत्व को समझने हमारे...

13 इस्राएल – आत्मा की दुबलापन

हर कोई सांसारिक समृद्धि चाहता है। कुछ आत्मा की समृद्धि चाहते हैं। परमेश्वर के चुने हुए लोग होने के बावजूद, इज़राइल आत्मा के दुबलेपन से ग्रस्त है।समझने: आत्मा की समृद्धि का अर्थ आत्मा की पतलापन का अर्थ हम अपने जीवन में आत्मा की समृद्धि का आनंद ले सकते हैं भजन 78 -...

14 यहोवा की आज्ञाओं

क्या आज पुराना नियम कानून प्रासंगिक है? यीशु का कहना है कि वह कानून को खत्म करने के लिए नहीं, बल्कि इसे पूरा करने के लिए आया था।कानूनों को तीन भागों में विभाजित किया गया था नैतिक और आध्यात्मिक कानूनों नागरिक कानूनों उत्सव-संबंधी कानूनों  निर्गमन 20:3 तू मुझे छोड़...