नया नियम सारांश

इजरायल और विश्व के लिए एकमात्र आशा यीशु है – पूर्ण नेता

पुराना नियम सारांश (39 पुस्तकें)

नया नियम सारांश (27 पुस्तकें)

इस्राएल का समय

चर्च का समय

बेबीलोन की कैद – 600 ईसा पूर्व

मौन वर्ष – 445 ईसा पूर्व

चर्च की आयु – ईस्वी 30

उत्साह / क्लेश / दूसरा आना [१]

ईसा मसीह का 1000 साल का शासन

नया नियम सारांश

सुसमाचार: विभिन्न विचार के माध्यम से यीशु की जिंदगी, शिक्षा और बलि के मौत

प्रेरितों के काम: यीशु की मृत्यु और पुनरुत्थान के बाद चेलों और प्रेरितों के जीवन में गतिशील परिवर्तन

पौलुस के पत्र: चर्चों और नेताओं के लिए

शक्तिशाली पत्र: पतरस, याकूब, यूहन्ना, यहूदा आदि।

प्रकाशित वाक्य: वर्तमान और भविष्य की दुनिया के राजसी समापन 

नया नियम बनाम पुराना नियम

परमेश्वर एक ही है

उनका चरित्र एक ही है

उसका शब्द एक ही है

कानून एक ही है

हमारे साथ उनका रिश्ता एक ही है

मनुष्य की बुराई एक ही है

परमेश्वर के लोगों के व्यवहार समान हैं

 

}केवल हमारी धारणा और समझ है जो यीशु के प्रदर्शन से बढ़ गया है

पुराने नियम में पुराना क्या है?

}अपूर्ण लोग एक आदर्श संदेश को संवाद करते हुए

}अपूर्ण लोग एक आदर्श कानून का अभ्यास करते हैं

}यीशु ने कभी कहा नहीं कि कानून पुराना था, उसने इसके अभ्यास की निंदा की।

यीशु सीधे बोलता है ..

इब्रानियों 1

1 पूर्व युग में परमेश्वर ने बाप दादों से थोड़ा थोड़ा करके और भांति भांति से भविष्यद्वक्ताओं के द्वारा बातें कर के।

2 इन दिनों के अन्त में हम से पुत्र के द्वारा बातें की, जिसे उस ने सारी वस्तुओं का वारिस ठहराया और उसी के द्वारा उस ने सारी सृष्टि रची है।

3 वह उस की महिमा का प्रकाश, और उसके तत्व की छाप है, और सब वस्तुओं को अपनी सामर्थ के वचन से संभालता है: वह पापों को धोकर ऊंचे स्थानों पर महामहिमन के दाहिने जा बैठा

नया नियम पूरा करता है

 

पुराने नियम हमें एक आदर्श दुनिया लाता है}नया नियम हमें लाता है:

◦बिल्कुल सही उद्धारकर्ता

◦उत्तम नेता और भूमिका

◦न्याय के बाद सही भविष्य – विजय की, महिमा की

अनावरण

}2 कुरिन्थियों 3:18 –  परन्तु जब हम सब के उघाड़े चेहरे से प्रभु का प्रताप इस प्रकार प्रगट होता है, जिस प्रकार दर्पण में, तो प्रभु के द्वारा जो आत्मा है, हम उसी तेजस्वी रूप में अंश अंश कर के बदलते जाते हैं॥

यीशु ने अपनी ज़िंदगी से कानून को पूरा किया जिससे कि हम उसके साथ अपने संबंधों से इसे पूरा कर सकें।

यह रिश्ता उनके परमात्मा प्रेम और क्षमा पर आधारित है

यह रिश्ता पिता, पवित्र आत्मा और वचन के साथ हमारे संबंधों को मजबूत करता है

पिता

परमेश्वर पिता के रूप में नए नियम में दिखाया गया है

लूका 15:17 जब वह अपने आपे में आया, तब कहने लगा, कि मेरे पिता के कितने ही मजदूरों को भोजन से अधिक रोटी मिलती है, और मैं यहां भूखा मर रहा हूं।

1 यूहन्ना 3:1 देखो पिता ने हम से कैसा प्रेम किया है, कि हम परमेश्वर की सन्तान कहलाएं, और हम हैं भी: इस कारण संसार हमें नहीं जानता, क्योंकि उस ने उसे भी नहीं जाना।

पिता

}रोमियो 8:15 क्योंकि तुम को दासत्व की आत्मा नहीं मिली, कि फिर भयभीत हो परन्तु लेपालकपन की आत्मा मिली है, जिस से हम हे अब्बा, हे पिता कह कर पुकारते हैं।

}मत्ती 6:26 आकाश के पक्षियों को देखो! वे न बोते हैं, न काटते हैं, और न खत्तों में बटोरते हैं; तौभी तुम्हारा स्वर्गीय पिता उन को खिलाता है; क्या तुम उन से अधिक मूल्य नहीं रखते। 

उद्धारकर्ता

प्रेरितों के काम 4:12 और किसी दूसरे के द्वारा उद्धार नहीं; क्योंकि स्वर्ग के नीचे मनुष्यों में और कोई दूसरा नाम नहीं दिया गया, जिस के द्वारा हम उद्धार पा सकें

फिलिप्पियों 3:20 पर हमारा स्वदेश स्वर्ग पर है; और हम एक उद्धारकर्ता प्रभु यीशु मसीह के वहां से आने ही बाट जोह रहे हैं।

1 तीमुथियुस 1:15 यह बात सच और हर प्रकार से मानने के योग्य है, कि मसीह यीशु पापियों का उद्धार करने के लिये जगत में आया, जिन में सब से बड़ा मैं हूं। 

नेता - मसीह के शब्द

मत्ती – अध्याय 16:24 तब यीशु ने अपने चेलों से कहा; यदि कोई मेरे पीछे आना चाहे, तो अपने आप का इन्कार करे और अपना क्रूस उठाए, और मेरे पीछे हो ले। 13 तुम मुझे गुरू, और प्रभु, कहते हो, और भला कहते हो, क्योंकि मैं वही हूं।

यूहन्ना 13:14 यदि मैं ने प्रभु और गुरू होकर तुम्हारे पांव धोए; तो तुम्हें भी एक दुसरे के पांव धोना चाहिए। 15 क्योंकि मैं ने तुम्हें नमूना दिखा दिया है, कि जैसा मैं ने तुम्हारे साथ किया है, तुम भी वैसा ही किया करो। 16 मैं तुम से सच सच कहता हूं, दास अपने स्वामी से बड़ा नहीं; और न भेजा हुआ अपने भेजने वाले से।

नेता - पौलुस के शब्द

1 कुरिन्थियों 11:1 तुम मेरी सी चाल चलो जैसा मैं मसीह की सी चाल चलता हूं॥ 1 इसलिये प्रिय, बालकों की नाईं परमेश्वर के सदृश बनो।

इफिसियों 5:2 और प्रेम में चलो; जैसे मसीह ने भी तुम से प्रेम किया; और हमारे लिये अपने आप को सुखदायक सुगन्ध के लिये परमेश्वर के आगे भेंट करके बलिदान कर दिया।

कुलुस्सियों 3:13 ….जैसे प्रभु ने तुम्हारे अपराध क्षमा किए, वैसे ही तुम भी करो। 

नेता - पतरस के शब्द

1 पतरस 2:20 क्योंकि यदि तुम ने अपराध करके घूंसे खाए और धीरज धरा, तो उस में क्या बड़ाई की बात है? पर यदि भला काम करके दुख उठाते हो और धीरज धरते हो, तो यह परमेश्वर को भाता है। 21 और तुम इसी के लिये बुलाए भी गए हो क्योंकि मसीह भी तुम्हारे लिये दुख उठा कर, तुम्हें एक आदर्श दे गया है, कि तुम भी उसके चिन्ह पर चलो। 22 न तो उस ने पाप किया, और न उसके मुंह से छल की कोई बात निकली।

नेता - यूहन्ना के शब्द

1 यूहन्ना 2:6 सो कोई यह कहता है, कि मैं उस में बना रहता हूं, उसे चाहिए कि आप भी वैसा ही चले जैसा वह चलता था।

1 यूहन्ना 3:15 जो कोई अपने भाई से बैर रखता है, वह हत्यारा है; और तुम जानते हो, कि किसी हत्यारे में अनन्त जीवन नहीं रहता। 16 हम ने प्रेम इसी से जाना, कि उस ने हमारे लिये अपने प्राण दे दिए; और हमें भी भाइयों के लिये प्राण देना चाहिए। 

पवित्र आत्मा

रोमियो 8:2 क्योंकि जीवन की आत्मा की व्यवस्था ने मसीह यीशु में मुझे पाप की, और मृत्यु की व्यवस्था से स्वतंत्र कर दिया

रोमियो 8:9 परन्तु जब कि परमेश्वर का आत्मा तुम में बसता है, तो तुम शारीरिक दशा में नहीं, परन्तु आत्मिक दशा में हो। यदि किसी में मसीह का आत्मा नहीं तो वह उसका जन नहीं।

गलातियों 4:6 और तुम जो पुत्र हो, इसलिये परमेश्वर ने अपने पुत्र के आत्मा को, जो हे अब्बा, हे पिता कह कर पुकारता है, हमारे हृदय में भेजा है। 

वचन

}भजन संहिता 33:4 क्योंकि यहोवा का वचन सीधा है; और उसका सब काम सच्चाई से होता है।  

}मत्ती 4:4 उस ने उत्तर दिया; कि लिखा है कि मनुष्य केवल रोटी ही से नहीं, परन्तु हर एक वचन से जो परमेश्वर के मुख से निकलता है जीवित रहेगा

}यूहन्ना 1:1 आदि में वचन था, और वचन परमेश्वर के साथ था, और वचन परमेश्वर था

भविष्य

}मत्ती 24:15 सो जब तुम उस उजाड़ने वाली घृणित वस्तु को जिस की चर्चा दानिय्येल भविष्यद्वक्ता के द्वारा हुई थी, पवित्र स्थान में खड़ी हुई देखो, (जो पढ़े, वह समझे)।

}मत्ती 24:24 क्योंकि झूठे मसीह और झूठे भविष्यद्वक्ता उठ खड़े होंगे, और बड़े चिन्ह और अद्भुत काम दिखाएंगे, कि यदि हो सके तो चुने हुओं को भी भरमा दें।

भविष्य

मत्ती 24:29 उन दिनों के क्लेश के बाद तुरन्त सूर्य अन्धियारा हो जाएगा, और चान्द का प्रकाश जाता रहेगा, और तारे आकाश से गिर पड़ेंगे और आकाश की शक्तियां हिलाई जाएंगी। 30 तब मनुष्य के पुत्र का चिन्ह आकाश में दिखाई देगा, और तब पृथ्वी के सब कुलों के लोग छाती पीटेंगे; और मनुष्य के पुत्र को बड़ी सामर्थ और ऐश्वर्य के साथ आकाश के बादलों पर आते देखेंगे। 

स्थान

केंद्र – इज़राइल

दुनिया के बाकी हिस्सों में स्थानांतरित

परिशोधन के बाद इजरायल वापस लौट रहा है

}जकर्याह 13:8 यहोवा की यह भी वाणी है, कि इस देश के सारे निवासियों की दो तिहाई मार डाली जाएगी और बची हुई तिहाई उस में बनी रहेगी। 9 उस तिहाई को मैं आग में डाल कर ऐसा निर्मल करूंगा, जैसा रूपा निर्मल किया जाता है, और ऐसा जाचूंगा जैसा सोना जांचा जाता है। वे मुझ से प्रार्थना किया करेंगे, और मैं उनकी सुनूंगा। मैं उनके विषय में कहूंगा, ये मेरी प्रजा हैं, और वे मेरे विषय में कहेंगे, यहोवा हमारा परमेश्वर है॥

रोमन साम्राज्य

इजरायल की बदौलत

मसीह की मौत के बाद बड़ी संख्या में यहूदियों को बिखरे हुए:

  • सताए गए रेगिस्तान भूमि भविष्यवाणी के रूप में वापस यहूदियों लौटने से सिंचित हो जाना शुरू कर दिया

  • जिस राष्ट्र का अस्तित्व नहीं था, वह पुनर्जन्म हुआ (1948)

  • आज यह दुनिया में एकमात्र यहोवा की उपासना करता है

  • क्या यह मसीह के दूसरे आने के लिए एक साथ आ रहा है?

पैलेस्टीनियन भूमि के नुकसान (1946-2000)

क्या इजराइल शांति के लिए दिया गया है

इजराइल - आज

References

1.@ Dr. Heinz Lycklama

2.Lion Publishing

Related Posts

2 मत्ती – पृथ्वी पर परमेश्वर का राज्य

मत्ती ने लंबे समय से प्रतीक्षित राजा को पृथ्वी पर उसका साम्राज्य लाने का परिचय दिया ।सारांश ◦परिचय - पृथ्वी पर ◦परमेश्वर का राज्य ◦राजा का वंश ◦आगे आगे पुकारनेवाला राजदूत ◦राज्य युद्ध ◦राज्य मूल्य ◦राज्य लोग (चेले) ◦राज्य की कुंजी ◦राजा वापस माल ◦द किंग रीडइम्स ◦राजा...

3 मरकुस – मसीह, मुख्य नेव का पत्थर

चर्च मसीह की नींव पर बनाया गया है।सारांश मरकुस की पृष्ठभूमि संदर्भ- मरकुस, यशायाह 28:16, मरकुस 12:10,11 मसीहा चमत्कार मंत्रालय की यात्रा बनानेवाला द्वारा अस्वीकृत खदान में अन्य पत्थरों हम किस पत्थरों से बने हैं?मुख्य कोने का सिरा वह संदर्भ है जिस पर पूरी निर्माण होता...

4 लूका – मनुष्य का पुत्र खोज रहा है और बचाता है

यह पुस्तक इसी कारण से ईसा मसीह की लिखी गई हैलूका 1:4 कि तू यह जान ले, कि वे बातें जिनकी तू ने शिक्षा पाई है, कैसी अटल हैं॥सारांश परिचय मनुष्य का पुत्र ढूंढ़ने को आया है और उन का उद्धार करने खोए हुओं चर्चाउद्देश्य यह पुस्तक लिखा गया था "ताकि आप सही सच्चाई जान सकें"...

5 यूहन्ना – बहुतायत जीवन

​यूहन्ना  "विश्वास" (लगभग 98 बार) पर जोर देता है, या विश्वास "जीवन" (लगभग 36 बार) प्राप्त करने के लिए है।परिचय सात चमत्कार सात “मैं हूँ” विश्वास स्वरूप, जीवन सारांश चर्चायूहन्ना की सुसमाचार: "विश्वास" 98 बार, "जीवन" 36 बार मसीह को परमेश्वर का पुत्रा के रूप में चित्रित...

6 प्रेरितों के काम – अत्यधिक विरोध, अत्यधिक प्रभाव

प्रेरितों की पुस्तक निर्भीक शिष्यों को साहसिक प्रेरितों के रूप में दिखाती है।डाक्टर लूका, एक रोमीय द्वारा लिखित पुस्तक ; प्रमुख घटनाओं है जैसे कि: चर्च का जन्म, पिन्तेकुस पतरस प्रमुख नेता बढ़ रहा है उनकी दृष्टि अन्यजातियों को सुसमाचार फैलाने के लिए शाऊल (पौलुस) का...