1 थिस्सलुनीकियों - झरना आशा

थिस्सलुनीकियों के लिए पौलुस का संदेश और मॉडल गंभीर विरोध के बावजूद मकिदुनिया, अखया और अन्य स्थानों में विश्वासियों के माध्यम से फैलता है।

झरना आशा

झरना आशा - सारांश

पृष्ठभूमि

सही उदाहरण:

  • 1 थिस्सलुनीकियों 1-2:7

कोमल रिश्ते:

  • 1 थिस्सलुनीकियों 2:8-3

बदालना आशा:

  • 1 थिस्सलुनीकियों  4

जीवन पर सलाह:

  • 1 थिस्सलुनीकियों  5

चर्चा

प्रमुख बाइबिल के पद

1 थिस्सलुनीकियों 1:6 और तुम बड़े क्लेश में पवित्र आत्मा के आनन्द के साथ वचन को मान कर हमारी और प्रभु की सी चाल चलने लगे। 7 यहां तक कि मकिदुनिया और अखया के सब विश्वासियों के लिये तुम आदर्श बने

परिचय

पत्र का उद्देश्य था:

  • आश्रय और विश्वास और आशा का प्रसार

  • पीड़ित नए विश्वासियों को प्रोत्साहित करें

  • उन्हें आश्वस्त करें कि मसीह के आने की आशा है और

  • मसीह में प्रियजनों के साथ पुनर्मिलन

पृष्ठभूमि -चर्च की उत्पत्ति

प्रेरितों के काम 17:1 फिर वे अम्फिपुलिस और अपुल्लोनिया होकर थिस्सलुनीके में आए, जहां यहूदियों का एक आराधनालय था। 2 और पौलुस अपनी रीति के अनुसार उन के पास गया, और तीन सब्त के दिन पवित्र शास्त्रों से उन के साथ विवाद किया

पृष्ठभूमि -चर्च की उत्पत्ति

प्रेरितों के काम 17:4 उन में से कितनों ने, और भक्त यूनानियों में से बहुतेरों ने और बहुत सी कुलीन स्त्रियों ने मान लिया, और पौलुस और सीलास के साथ मिल गए। 5 परन्तु यहूदियों ने डाह से भरकर बजारू लोगों में से कई दुष्ट मनुष्यों को अपने साथ में लिया, और भीड़ लगाकर नगर में हुल्लड़ मचाने लगे, और यासोन के घर पर चढ़ाई करके उन्हें लोगों के साम्हने लाना चाहा।…

10 भाइयों ने तुरन्त रात ही रात पौलुस और सीलास को बिरीया में भेज दिया: और वे वहां पहुंचकर यहूदियों के आराधनालय में गए। 

सही उदाहरण

पौलुस उदाहरण (1 थिस्सलुनीकियों 1: 2-7) में दर्शाता है और इसमें परिणाम:

  • धन्यवाद का प्रार्थनायें

  • विश्वास का काम

  • ऐसा कठिन कार्य जिसके करने पर आनंद मिले

  • आशा की दृढ़ता

1 थिस्सलुनीकियों 1:2 वरन तुम आप ही जानते हो, कि पहिले पहिल फिलिप्पी में दुख उठाने और उपद्रव सहने पर भी हमारे परमेश्वर ने हमें ऐसा हियाव दिया, कि हम परमेश्वर का सुसमाचार भारी विरोधों के होते हुए भी तुम्हें सुनाएं।

सही उदाहरण

पौलुस प्रचार करता है

विपक्ष के सामने

  • शुद्ध मंशा

  • कोई चालान नहीं

  • कोई चापलूसी नहीं

  • लालच को छिपाव करने के लिए कोई मुखौटा नहीं

  • काम किया दिन और रात

  • प्रशंसा की तलाश नहीं

  • प्राधिकरण पर ज़ोर देना नहीं

परन्तु जैसा कि परमेश्वर द्वारा अनुमोदित और सुसमाचार के साथ सौंपा गया (1 थिस्सलुनीकियों 2:3-6)

सही उदाहरण

1 थिस्सलुनीकियों 2:3 क्योंकि हमारा उपदेश न भ्रम से है और न अशुद्धता से, और न छल के साथ है। 4 पर जैसा परमेश्वर ने हमें योग्य ठहराकर सुसमाचार सौंपा, हम वैसा ही वर्णन करते हैं; और इस में मनुष्यों को नहीं, परन्तु परमेश्वर को, जो हमारे मनों को जांचता है, प्रसन्न करते हैं।

1 थिस्सलुनीकियों 2:5 क्योंकि तुम जानते हो, कि हम न तो कभी लल्लोपत्तो की बातें किया करते थे, और न लोभ के लिये बहाना करते थे, परमेश्वर गवाह है। 6 और यद्यपि हम मसीह के प्रेरित होने के कारण तुम पर बोझ डाल सकते थे, तौभी हम मनुष्यों से आदर नहीं चाहते थे, और न तुम से, न और किसी से।

सही उदाहरण - धन्यवाद का प्रार्थनायें

1 थिस्सलुनीकियों 2:13 इसलिये हम भी परमेश्वर का धन्यवाद निरन्तर करते हैं; कि जब हमारे द्वारा परमेश्वर के सुसमाचार का वचन तुम्हारे पास पहुंचा, तो तुम ने उस मनुष्यों का नहीं, परन्तु परमेश्वर का वचन समझकर (और सचमुच यह ऐसा ही है) ग्रहण किया: और वह तुम में जो विश्वास रखते हो, प्रभावशाली है। 14 इसलिये कि तुम, हे भाइयो, परमेश्वर की उन कलीसियाओं की सी चाल चलने लगे, जो यहूदिया में मसीह यीशु में हैं, क्योंकि तुम ने भी अपने लोगों से वैसा ही दुख पाया, जैसा उन्होंने यहूदियों से पाया था।

सही उदाहरण - विश्वास का काम

1 थिस्सलुनीकियों 1:8 क्योंकि तुम्हारे यहां से न केवल मकिदुनिया और अखया में प्रभु का वचन सुनाया गया, पर तुम्हारे विश्वास की जो परमेश्वर पर है, हर जगह ऐसी चर्चा फैल गई है, कि हमें कहने की आवश्यकता ही नहीं। 1

सही उदाहरण-प्यार का कठिन कार्य

1 थिस्सलुनीकियों 1:6 और तुम बड़े क्लेश में पवित्र आत्मा के आनन्द के साथ वचन को मान कर हमारी और प्रभु की सी चाल चलने लगे। 7 यहां तक कि मकिदुनिया और अखया के सब विश्वासियों के लिये तुम आदर्श बने।

सही उदाहरण -आशा की दृढ़ता

1 थिस्सलुनीकियों 1:9 क्योंकि वे आप ही हमारे विषय में बताते हैं कि तुम्हारे पास हमारा आना कैसा हुआ; और तुम कैसे मूरतों से परमेश्वर की ओर फिरे ताकि जीवते और सच्चे परमेश्वर की सेवा करो। 10 और उसके पुत्र के स्वर्ग पर से आने की बाट जोहते रहो जिसे उस ने मरे हुओं में से जिलाया, अर्थात यीशु की, जो हमें आने वाले प्रकोप से बचाता है॥

कोमल रिश्ते

नर्सिंग माँ  की तरह

पिता की तरह

अनाथों की तरह

भाई के जैसा

(1 थिस्सलुनीकियों 2:7-3:13)

कोमल रिश्ते - नर्सिंग माँ की तरह

1 थिस्सलुनीकियों 2:7 परन्तु जिस तरह माता अपने बालकों का पालन-पोषण करती है, वैसे ही हम ने भी तुम्हारे बीच में रह कर कोमलता दिखाई है।

8 और वैसे ही हम तुम्हारी लालसा करते हुए, न केवल परमेश्वर को सुसमाचार, पर अपना अपना प्राण भी तुम्हें देने को तैयार थे, इसलिये कि तुम हमारे प्यारे हो गए थे।

कोमल रिश्ते - पिता की तरह

1 थिस्सलुनीकियों 2:11 जैसे तुम जानते हो, कि जैसा पिता अपने बालकों के साथ बर्ताव करता है, वैसे ही हम तुम में से हर एक को भी उपदेश करते, और शान्ति देते, और समझाते थे। 12 कि तुम्हारा चाल चलन परमेश्वर के योग्य हो, जो तुम्हें अपने राज्य और महिमा में बुलाता है॥

कोमल रिश्ते - अनाथों की तरह

1 थिस्सलुनीकियों 2:17 हे भाइयों, जब हम थोड़ी देर के लिये मन में नहीं वरन प्रगट में तुम से अलग हो गए थे, तो हम ने बड़ी लालसा के साथ तुम्हारा मुंह देखने के लिये और भी अधिक यत्न किया। 18 इसलिये हम ने (अर्थात मुझ पौलुस ने) एक बार नहीं, वरन दो बार तुम्हारे पास आना चाहा, परन्तु शैतान हमें रोके रहा।

1 थिस्सलुनीकियों 3:5 इस कारण जब मुझ से और न रहा गया, तो तुम्हारे विश्वास का हाल जानने के लिये भेजा, कि कहीं ऐसा न हो, कि परीक्षा करने वाले ने तुम्हारी परीक्षा की हो, और हमारा परिश्रम व्यर्थ हो गया हो।  

कोमल रिश्ते - भाई के जैसा

1 थिस्सलुनीकियों 3:7 इसलिये हे भाइयों

9 और जैसा आनन्द हमें तुम्हारे कारण अपने परमेश्वर के साम्हने है, उसके बदले तुम्हारे विषय में हम किस रीति से परमेश्वर का धन्यवाद करें?

10 हम रात दिन बहुत ही प्रार्थना करते रहते हैं, कि तुम्हारा मुंह देखें, और तुम्हारे विश्वास की घटी पूरी करें

बदालना आशा

  • आशा की जीवन

  • प्यार से आशा

  • आशा में असीम भविष्य

 

बदालना आशा - आशा की जीवन

1 थिस्सलुनीकियों 4:3 क्योंकि परमेश्वर की इच्छा यह है, कि तुम पवित्र बनो: अर्थात व्यभिचार से बचे रहो।

4 और तुम में से हर एक पवित्रता और आदर के साथ अपने पात्र को प्राप्त करना जाने।

7 क्योंकि परमेश्वर ने हमें अशुद्ध होने के लिये नहीं, परन्तु पवित्र होने के लिये बुलाया है।  

बदालना आशा - प्यार से आशा

1 थिस्सलुनीकियों 4:9 किन्तु भाईचारे की प्रीति के विषय में यह अवश्य नहीं, कि मैं तुम्हारे पास कुछ लिखूं; क्योंकि आपस में प्रेम रखना तुम ने आप ही परमेश्वर से सीखा है। 
10 और सारे मकिदुनिया के सब भाइयों के साथ ऐसा करते भी हो, पर हे भाइयों, हम तुम्हें समझाते हैं, कि और भी बढ़ते जाओ। 

आशा में असीम भविष्य

1 थिस्सलुनीकियों 4:14 क्योंकि यदि हम प्रतीति करते हैं, कि यीशु मरा, और जी भी उठा, तो वैसे ही परमेश्वर उन्हें भी जो यीशु में सो गए हैं, उसी के साथ ले आएगा।  15 क्योंकि हम प्रभु के वचन के अनुसार तुम से यह कहते हैं, कि हम जो जीवित हैं, और प्रभु के आने तक बचे रहेंगे तो सोए हुओं से कभी आगे न बढ़ेंगे

आशा में असीम भविष्य

1 थिस्सलुनीकियों 4:16 क्योंकि प्रभु आप ही स्वर्ग से उतरेगा; उस समय ललकार, और प्रधान दूत का शब्द सुनाई देगा, और परमेश्वर की तुरही फूंकी जाएगी, और जो मसीह में मरे हैं, वे पहिले जी उठेंगे। 17 तब हम जो जीवित और बचे रहेंगे, उन के साथ बादलों पर उठा लिए जाएंगे, कि हवा में प्रभु से मिलें, और इस रीति से हम सदा प्रभु के साथ रहेंगे।

जीवन पर सलाह(1 थिस्सलुनीकियों 5)

  • चौकसी शांत हो जाओ,

  • दूसरों के रवैया सम्मान करते हुए, आलसी सलाह देना, डरपोक को प्रोत्साहित करना, शांति से रहना, धैर्य रखें

  • स्वयं को रवैया –  सभी परिस्थितियों में धन्यवाद देते रहो, हमेशा आनन्दित रहो, बिना प्रार्थना किए, हर चीज का परीक्षण करें, अच्छे से पकड़ो

  • ऐसा न करेंसो जाओ, बुराई के लिए बुराई, आत्मा बुझाना, भविष्यद्वक्ताओं के शब्दों को तुच्छ, बुराई

झरना आशा - सारांश

सही उदाहरण:

  • धन्यवाद का प्रार्थनायें

  • विश्वास का काम

  • प्यार का कठिन कार्य

  • आशा की दृढ़ता

कोमल रिश्ते

  • नर्स की तरह}पिता की तरह

  • अनाथों की तरह

  • भाई के जैसा

झरना आशा - सारांश

बदालना आशा

  • आशा की जीवन

  • प्यार से आशा

  • आशा में असीम भविष्य

जीवन पर सलाह

  • चौकसी

  • दूसरों के रवैया

  • स्वयं को रवैया

  • क्या न करना

चर्चा

  • पौलुस ने अपने व्यक्तिगत उदाहरण के माध्यम से किस शक्तिशाली सबक पर बातचीत की? प्रभाव क्या था?

  • क्या संबंधों में पौलुस के दृष्टिकोण में विशेष था?

  • मसीह के दूसरे आने के बारे में हम क्या सीखते हैं? हम इसके लिए सबसे अच्छी तैयारी कैसे कर सकते हैं?

आशा सूर्य की तरह है, जो हम की ओर यात्रा करते हैं, हमारे पीछे हमारे बोझ की छाया डाले हैं - शमूएल

Related Posts

7 रोमियो – जीवन परिवर्तन यात्रा

पौलुस इस पत्र में वैश्विक चर्च के लिए शिक्षाओं की नींव रखता है पाप के गुलाम कृपा से बचे पूर्णता के लिए बलिदान वरदान साझा करें चर्चा अक्सर सवाल परिचय...

8 1 कुरिन्थियों – स्वर्ग का सोना

लोग इसके लिए लड़ते हैं। इसके लिए जिएं। इसके लिए मर जाओ। सोने की तलाश कभी बंद नहीं होती। फिर भी कितने लोग इसका आनंद लेते हैं? कितनी देर से? पौलुस ने...

9 2 कुरिन्थियों – मिट्टी के पात्र

पौलुस परमेश्वर के आगामी अनुग्रह के साथ अपने संघर्ष और कमजोरी को साझा करता है।2 कुरिन्थियों 4:7 परन्तु हमारे पास यह धन मिट्ठी के बरतनों में रखा है,...

10 गलतियों – अब मैं नहीं

हम इसे सुनते हैं, हम इसे जानते हैं, हम इसे गाते हैं, हम इसे कहते हैं। लेकिन क्या हम वास्तव में इसे जीते हैं? जिस क्षण हम अपने पुराने स्वभाव को दफन...

11 इफिसियों – सीमाएं आगे बढ़ने

उत्पीड़न के बीच इफिसियों को फलदायी जीवन बनाए रखना पड़ा। ईश्वर हमें बेहतर सफल होने के लिए प्रेरित कर रहा है।परिचय महान भाग्य उत्तम संगति असीम क्षमता...

12 फिलिप्पियों – मसीह का मन

पौलुस, फिलीपिंसियों को प्रोत्साहित करता है और हमें "मसीह यीशु के समान मानसिकता रखता है" के लिए मार्गदर्शन करता है। एक मन जो विनम्र, सामंजस्यपूर्ण,...

13 कुलुस्सियों – मसीह में पूर्ण सिद्ध

परमेश्वर चाहता है कि हम आध्यात्मिक शिशुओं से पूर्ण परिपक्वता में विकसित हों। सही सिद्धांत, मजबूत नींव, अच्छा नेतृत्व परिपक्वता के प्रमुख गुण हैं।  ...

15 2 थिस्सलुनीकियों – आश्वस्त आशा

अंत समय के संकेत क्या हैं? जबकि दुष्ट दुनिया की सभी अच्छाईयों को चट कर रहे हैं, मसीह के राजसी आगमन और सबसे शक्तिशाली अनिष्ट शक्तियों पर विजय का...

16 1 तीमुथियुस – लड़ने योग्य

पौलुस तीमुथियुस से कहता है कि वह अपने और चर्च के भीतर आध्यात्मिक अनुशासन बनाए रखे और “फिट” रहे। आध्यात्मिक योग्यता: शुद्ध विवेक आध्यात्मिक दुर्बलता:...

17 2 तीमुथियुस – निडर सच्चाई

यह शायद पौलुस का अंतिम पत्र है क्योंकि वह शहादत की आशा करता है। वफादार कुछ को छोड़कर ठंडा और सुनसान, वह अभी भी विजयी है। वह वफादार नेताओं को...

18 तीतुस – दोहरा पकड़

पौलुस तीतुस को एक दोहरी पकड़ पाने के लिए प्रोत्साहित करता है - खुद पर और संदेश पर एक अच्छी पकड़। सारांश उद्देश्य परिचय शुभकामना जिम्मेदार जगाना...

19 फिलेमोन – अवतार

सबसे छोटे अक्षरों में से एक, यह सबसे शक्तिशाली में से एक बना हुआ है।  गहरी समझ से यह एक महान नेता के विकास पर  समझ प्रदान करता है।परिचय पौलुस की...