2 पतरस - सवेरा से पहले अंधेरे

एक बार भयभीत पतरस साहसपूर्वक मृत्यु की आशंका करता है। वह हमें प्रकाश में रहने और “अंधेरे समय” को संभालने के लिए तैयार करता है।

महत्वपूर्ण पद

2 पतरस 1:19 और हमारे पास जो भविष्यद्वक्ताओं का वचन है, वह इस घटना से दृढ़ ठहरा है और तुम यह अच्छा करते हो, कि जो यह समझ कर उस पर ध्यान करते हो, कि वह एक दीया है, जो अन्धियारे स्थान में उस समय तक प्रकाश देता रहता है जब तक कि पौ न फटे, और भोर का तारा तुम्हारे हृदयों में न चमक उठे।

सारांश

  • उद्देश्य

  • परिचय

  • प्रकाश में रहते हैं – 2 पतरस 1

  • झूठ बोलने  नेताओं- 2 पतरस 2

  • किसी को भी नहीं खोना सुनिश्चित करना- 2 पतरस 3

  • अंतिम दिन – 2 पतरस 3

  • अपनी आँखें प्रभु पर रखो- 3

  • विचार-विमर्श

उद्देश्य

  • आध्यात्मिक प्रकाश और अंधेरे के बीच अंतर करें

  • उनकी विशेषताओं और उनके परिणामों से पहचान करें

  • हमारे जीवन में अभी भी अंधेरे में क्षेत्रों की पहचान करें ताकि हम उन्हें प्रकाश में ला सकें

  • प्रकाश को फैलाने का प्रयत्न करें

उद्देश्य

  • पतरस के आखिरी पत्र को सभी विश्वासियों को लिखा हुआ; पहले यहूदियों को लिखा हुआ।

  • जैसा कि वह साहसपूर्वक मृत्यु की तैयार करता है, वह हमें प्रकाश में रहने और “अंधकार युग” को संभाल करने के लिए तैयार करता है।

  • उन्होंने पौलुस के पत्र पढ़े हैं और इन्हें इस पत्र में संदर्भित किया है

प्रकाश में रहते हैं-दैवीय शक्ति, परिश्रम

2 पतरस 1:3 क्योंकि उसके ईश्वरीय सामर्थ ने सब कुछ जो जीवन और भक्ति से सम्बन्ध रखता है, हमें उसी की पहचान के द्वारा दिया है, जिस ने हमें अपनी ही महिमा और सद्गुण के अनुसार बुलाया है। 4 जिन के द्वारा उस ने हमें बहुमूल्य और बहुत ही बड़ी प्रतिज्ञाएं दी हैं: ताकि इन के द्वारा तुम उस सड़ाहट से छूट कर जो संसार में बुरी अभिलाषाओं से होती है, ईश्वरीय स्वभाव के समभागी हो जाओ। 5 और इसी कारण तुम सब प्रकार का यत्न करके, अपने विश्वास पर सद्गुण, और सद्गुण पर समझ।

प्रकाश में रहते हैं-दैवीय शक्ति, परिश्रम

परिश्रम है:

  • “ईमानदारी से कड़ी मेहनत और दृढ़ता, विशेष रूप से परमेश्वर के साथ एक रिश्ते बनाने के लिए”

  • दिव्य शक्ति के साथ मिल जाना [2]

नीतिवचन 4:23 सब से अधिक अपने मन की रक्षा कर; क्योंकि जीवन का मूल स्रोत वही है।

दैवीय शक्ति, परिश्रम

प्रकाश में रहते हैं - परिणाम

झूठ बोलने वालों नेताओं-

  • 2 पतरस 2 पढ़ें।  झूठ बोलने वाले नेताओं की क्या विशेषताएं हैं? चर्चा कर।

  • इस मार्ग में हम लूत के बारे में क्या सीखते हैं?

झूठ बोलने वालों नेताओं

झूठ बोलने वालों नेताओं - परिणाम - विनाश

2 पतरस 2:4 क्योंकि जब परमेश्वर ने उन स्वर्गदूतों को जिन्हों ने पाप किया नहीं छोड़ा, पर नरक में भेज कर अन्धेरे कुण्डों में डाल दिया, ताकि न्याय के दिन तक बन्दी रहें।

2 पतरस 2:3 उन का विनाश ऊंघता नहीं 

2 पतरस 2:12 पर ये लोग निर्बुद्धि पशुओं ही के तुल्य हैं, जो पकड़े जाने और नाश होने के लिये उत्पन्न हुए हैं;

2 पतरस 2:6 और सदोम और अमोरा के नगरों को विनाश का ऐसा दण्ड दिया, कि उन्हें भस्म करके राख में मिला दिया ताकि वे आने वाले भक्तिहीन लोगों की शिक्षा के लिये एक दृष्टान्त बनें। 

2 पतरस 2:17 ये लोग अन्धे कुंए, और आन्धी के उड़ाए हुए बादल हैं, उन के लिये अनन्त अन्धकार ठहराया गया है 

आश्वासन

2 पतरस 2:9 तो प्रभु के भक्तों को परीक्षा में से निकाल लेना और अधमिर्यों को न्याय के दिन तक दण्ड की दशा में रखना भी जानता है।

अंतिम दिन

2 पतरस 3:10 परन्तु प्रभु का दिन चोर की नाईं आ जाएगा, उस दिन आकाश बड़ी हड़हड़ाहट के शब्द से जाता रहेगा, और तत्व बहुत ही तप्त होकर पिघल जाएंगे, और पृथ्वी और उस पर के काम जल जाऐंगे।

2 पतरस 3:6 इन्हीं के द्वारा उस युग का जगत जल में डूब कर नाश हो गया। 7 पर वर्तमान काल के आकाश और पृथ्वी उसी वचन के द्वारा इसलिये रखे हैं, कि जलाए जाएं; और वह भक्तिहीन मनुष्यों के न्याय और नाश होने के दिन तक ऐसे ही रखे रहेंगे॥

 

अंतिम दिन

  • “प्रभु का दिन” बाइबिल में एक दिन नहीं है

  • ये अंतिम विनाश के चेतावनी हैं

  • जहां स्वर्ग और पृथ्वी पर नए आकाश में आग लगने से नष्ट हो गया

 

किसी को भी नहीं खोना सुनिश्चित करना

2 पतरस 3:9 प्रभु अपनी प्रतिज्ञा के विषय में देर नहीं करता, जैसी देर कितने लोग समझते हैं; पर तुम्हारे विषय में धीरज धरता है, और नहीं चाहता, कि कोई नाश हो; वरन यह कि सब को मन फिराव का अवसर मिले

अपनी आँखें प्रभु पर रखो

2 पतरस 3:13 पर उस की प्रतिज्ञा के अनुसार हम एक नए आकाश और नई पृथ्वी की आस देखते हैं जिन में धामिर्कता वास करेगी॥ 14 इसलिये, हे प्रियो, जब कि तुम इन बातों की आस देखते हो तो यत्न करो कि तुम शान्ति से उसके साम्हने निष्कलंक और निर्दोष ठहरो।

विचार-विमर्श

  • }क्या हम खोई बचाने के लिए ईश्वर की धैर्य लेते हैं?

  • 2 पतरस 3:9 पर चर्चा करें

References

1.bible.com

Related Posts

20 इब्रानियों – असली प्रस्ताव

इब्रानियों को पत्र यहूदियों, (और ईसाइयों) को याद दिलाता है कि हम मसीह के अनुयायी होने के मुख्य चीज़ें को याद कर रहे हैं। यह हमें याद दिलाता है कि...

21 याकूब – सभी या कुछ नहीं

याकूब हमें सिखाता है कि जब हम मसीह का अनुसरण करते हैं तो हमें सभी में या बाहर होना चाहिए। यह हमारे दृष्टिकोण, प्रार्थनाओं, गर्व, सुनने, विश्वास, धन,...

22 1 पतरस – पीड़ा के दृष्टिकोण

दुख क्यों? यह परमेश्वर के मूल उद्देश्य का हिस्सा नहीं है। हालाँकि, परमेश्वर और शैतान दोनों अपने उद्देश्यों को पूरा करने के लिए कष्ट का उपयोग करते...

24 1 यूहन्ना – साहचर्य का आनंद लें

हम परमेश्वर और अन्य लोगों के साथ संगति के लिए बने हैं। जबकि पाप ने इसे बिगाड़ दिया है, मसीह इसे बहाल कर रहा है। क्या हम उस चीज़ का आनंद ले रहे हैं...

25 2 यूहन्ना – सत्य में प्यार

जब कठिन सत्य और कोमल प्रेम एक साथ आते हैं, तो कई बार प्रेम को कठोर होना पड़ता है और सत्य कोमल हो जाता है।   2 यूहन्ना 1:1 मुझ प्राचीन की ओर से उस...

26 3 यूहन्ना – सुसमाचार प्रतिरूप

हर कोई समृद्ध होना चाहता है। वास्तव में सफल वही होंगे जिनके पास आत्मा की समृद्धि है। 3 यूहन्ना 1:5 हे प्रिय, जो कुछ तू उन भाइयों के साथ करता है, जो...

27 यहूदा – अपनी स्थिति रखो

जब भी हम किसी भी क्षेत्र में स्थिति बनाए रखने के लिए कड़ी मेहनत करते हैं। यीशु का सौतेला भाई यहूदा, सच्चे विश्वासियों को मसीह में हमारी स्थिति बनाए...