शक्तिशाली पत्र Powerful Letters

20 इब्रानियों – असली प्रस्ताव

20 इब्रानियों – असली प्रस्ताव

इब्रानियों को पत्र यहूदियों, (और ईसाइयों) को याद दिलाता है कि हम मसीह के अनुयायी होने के मुख्य चीज़ें को याद कर रहे हैं। यह हमें याद दिलाता है कि वास्तव में क्या महत्वपूर्ण है। इब्रानियों 11:6 और विश्वास बिना उसे प्रसन्न करना अनहोना है, क्योंकि परमेश्वर के पास आने...

read more
21 याकूब – सभी या कुछ नहीं

21 याकूब – सभी या कुछ नहीं

याकूब हमें सिखाता है कि जब हम मसीह का अनुसरण करते हैं तो हमें सभी में या बाहर होना चाहिए। यह हमारे दृष्टिकोण, प्रार्थनाओं, गर्व, सुनने, विश्वास, धन, भाषण, ज्ञान, दोस्ती, आदि में दिखाया गया है।परिचय दोहरा परिप्रेक्ष्य कर्ता धोखेबाज घुमक्कड़ विचार-विमर्शपारम्परिक रूप से...

read more
22 1 पतरस – पीड़ा के दृष्टिकोण

22 1 पतरस – पीड़ा के दृष्टिकोण

दुख क्यों? यह परमेश्वर के मूल उद्देश्य का हिस्सा नहीं है। हालाँकि, परमेश्वर और शैतान दोनों अपने उद्देश्यों को पूरा करने के लिए कष्ट का उपयोग करते हैं। उद्देश्य परिचय पीड़ा को परमेश्वर के मोड़ पीड़ा को शैतान के मोड़ पीड़ा के प्रकार ज़िन्दगी की आवश्यकताएँ पीड़ा पर...

read more
23 2 पतरस – सवेरा से पहले अंधेरे

23 2 पतरस – सवेरा से पहले अंधेरे

एक बार भयभीत पतरस साहसपूर्वक मृत्यु की आशंका करता है। वह हमें प्रकाश में रहने और "अंधेरे समय" को संभालने के लिए तैयार करता है।2 पतरस 1:19 और हमारे पास जो भविष्यद्वक्ताओं का वचन है, वह इस घटना से दृढ़ ठहरा है और तुम यह अच्छा करते हो, कि जो यह समझ कर उस पर ध्यान करते...

read more
24 1 यूहन्ना – साहचर्य का आनंद लें

24 1 यूहन्ना – साहचर्य का आनंद लें

हम परमेश्वर और अन्य लोगों के साथ संगति के लिए बने हैं। जबकि पाप ने इसे बिगाड़ दिया है, मसीह इसे बहाल कर रहा है। क्या हम उस चीज़ का आनंद ले रहे हैं जो हम बना रहे हैं?1 यूहन्ना 1:3 जो कुछ हम ने देखा और सुना है उसका समाचार तुम्हें भी देते हैं, इसलिये कि तुम भी हमारे साथ...

read more
25 2 यूहन्ना – सत्य में प्यार

25 2 यूहन्ना – सत्य में प्यार

जब कठिन सत्य और कोमल प्रेम एक साथ आते हैं, तो कई बार प्रेम को कठोर होना पड़ता है और सत्य कोमल हो जाता है।   2 यूहन्ना 1:1 मुझ प्राचीन की ओर से उस चुनी हुई श्रीमती और उसके लड़के बालों के नाम जिन से मैं उस सच्चाई के कारण सत्य प्रेम रखता हूं, जा हम में स्थिर रहती है, और...

read more
26 3 यूहन्ना – सुसमाचार प्रतिरूप

26 3 यूहन्ना – सुसमाचार प्रतिरूप

हर कोई समृद्ध होना चाहता है। वास्तव में सफल वही होंगे जिनके पास आत्मा की समृद्धि है। 3 यूहन्ना 1:5 हे प्रिय, जो कुछ तू उन भाइयों के साथ करता है, जो परदेशी भी हैं, उसे विश्वासी की नाईं करता है। 6 उन्होंने मण्डली के साम्हने तेरे प्रेम की गवाही दी थी: यदि तू उन्हें उस...

read more
27 यहूदा – अपनी स्थिति रखो

27 यहूदा – अपनी स्थिति रखो

जब भी हम किसी भी क्षेत्र में स्थिति बनाए रखने के लिए कड़ी मेहनत करते हैं। यीशु का सौतेला भाई यहूदा, सच्चे विश्वासियों को मसीह में हमारी स्थिति बनाए रखने के लिए प्रोत्साहित करता है। वह विश्वास दिलाता है कि मसीह ने हमें रखा है।यहूदा 1:21 अपने आप को परमेश्वर के प्रेम में...

read more