रोमियो - जीवन परिवर्तन यात्रा

पौलुस इस पत्र में वैश्विक चर्च के लिए शिक्षाओं की नींव रखता है

सारांश

पाप के गुलाम

कृपा से बचे

पूर्णता के लिए बलिदान

वरदान साझा करें

चर्चा

अक्सर सवाल

परिचय – जीवन परिवर्तन यात्रा

रोमियो 12:1 इसलिये हे भाइयों, मैं तुम से परमेश्वर की दया स्मरण दिला कर बिनती करता हूं, कि अपने शरीरों को जीवित, और पवित्र, और परमेश्वर को भावता हुआ बलिदान करके चढ़ाओ: यही तुम्हारी आत्मिक सेवा है।

2 और इस संसार के सदृश न बनो; परन्तु तुम्हारी बुद्धि के नये हो जाने से तुम्हारा चाल-चलन भी बदलता जाए, जिस से तुम परमेश्वर की भली, और भावती, और सिद्ध इच्छा अनुभव से मालूम करते रहो॥

परिचय

प्रेरित पौलुस ने लगभग 56-57 ईसवी के बारे में लिखा।

रोमियो ऐसे उद्धार, भविष्यवाणी, परमेश्वर की सार्वभौमिकता, निर्णय, आध्यात्मिक विकास, भगवान की धार्मिकता, आदि जैसे सवालों के जवाब देते हैं।

पौलुस केवल परमेश्वर  की धार्मिकता में विश्वास के द्वारा मोक्ष पर प्रकाश डाला है:

रोमियो 1:16 क्योंकि मैं सुसमाचार से नहीं लजाता, इसलिये कि वह हर एक विश्वास करने वाले के लिये, पहिले तो यहूदी, फिर यूनानी के लिये उद्धार के निमित परमेश्वर की सामर्थ है। 
17 क्योंकि उस में परमेश्वर की धामिर्कता विश्वास से और विश्वास के लिये प्रगट होती है; जैसा लिखा है, कि विश्वास से धर्मी जन जीवित रहेगा

प्रश्न उत्तर दिए

क्यों विश्वास करते हो?

अच्छे लोगों के लिए क्या होता है जो नहीं विश्वास करते?

अनुग्रह क्या है?

यदि परमेश्वर ने पहले से ही हमें पूर्वनिर्धारित किया है, तो व्यक्ति की भूमिका कहां आती है?

क्यों पीड़ा?

हमारे शरीर को कैसे अनुशासन देना है?

अगर पौलुस स्वयं अपने शरीर को नियंत्रित करने के लिए संघर्ष कर रहा है, तो यह हमें क्या संदेश देता है?

पाप के गुलाम

रोमियो 3:10 जैसा लिखा है, कि कोई धर्मी नहीं, एक भी नहीं। 

रोमियो 3:23 इसलिये कि सब ने पाप किया है और परमेश्वर की महिमा से रहित हैं।

पाप के गुलाम

कानून के नीचे यहूदी

रोमियो 2:2 इसलिये कि जिन्हों ने बिना व्यवस्था पाए पाप किया, वे बिना व्यवस्था के नाश भी होंगे, और जिन्हों ने व्यवस्था पाकर पाप किया, उन का दण्ड व्यवस्था के अनुसार होगा

पाप के गुलाम

रोमियो 11:4 परन्तु परमेश्वर से उसे क्या उत्तर मिला? कि मैं ने अपने लिये सात हजार पुरूषों को रख छोड़ा है जिन्हों ने बाल के आग घुटने नहीं टेके हैं।

5 सो इसी रीति से इस समय भी, अनुग्रह से चुने हुए कितने लोग बाकी हैं

6 यदि यह अनुग्रह से हुआ है, तो फिर कर्मों से नहीं, नहीं तो अनुग्रह फिर अनुग्रह नहीं रहा।

पाप के गुलामकानून के बिना अन्यजातियां

रोमियो 5:12 इसलिये जैसा एक मनुष्य के द्वारा पाप जगत में आया, और पाप के द्वारा मृत्यु आई, और इस रीति से मृत्यु सब मनुष्यों में फैल गई, इसलिये कि सब ने पाप किया। 13 क्योंकि व्यवस्था के दिए जाने तक पाप जगत में तो था, परन्तु जहां व्यवस्था नहीं, वहां पाप गिना नहीं जाता। 14 तौभी आदम से लेकर मूसा तक मृत्यु ने उन लोगों पर भी राज्य किया, जिन्हों ने उस आदम के अपराध की नाईं जो उस आने वाले का चिन्ह है, पाप न किया।

पाप के गुलाम कानून के बिना अन्यजातियां

रोमियो 11:4 परन्तु परमेश्वर से उसे क्या उत्तर मिला? कि मैं ने अपने लिये सात हजार पुरूषों को रख छोड़ा है जिन्हों ने बाल के आग घुटने नहीं टेके हैं।

5 सो इसी रीति से इस समय भी, अनुग्रह से चुने हुए कितने लोग बाकी हैं

6 यदि यह अनुग्रह से हुआ है, तो फिर कर्मों से नहीं, नहीं तो अनुग्रह फिर अनुग्रह नहीं रहा।

बड़ी तस्वीरपहिले से ठहराया

रोमियो 8:29 क्योंकि जिन्हें उस ने पहिले से जान लिया है उन्हें पहिले से ठहराया भी है कि उसके पुत्र के स्वरूप में हों ताकि वह बहुत भाइयों में पहिलौठा ठहरे।30 फिर जिन्हें उस ने पहिले से ठहराया, उन्हें बुलाया भी, और जिन्हें बुलाया, उन्हें धर्मी भी ठहराया है, और जिन्हें धर्मी ठहराया, उन्हें महिमा भी दी है॥

पहिले से जान पर ईश्वर चुनता है और उनको बुलाता है जो उसे चुनेंगे।

कृपा से बचे

अनुग्रह और धर्म रूपी वरदान

रोमियो 5:17 क्योंकि जब एक मनुष्य के अपराध के कराण मृत्यु ने उस एक ही के द्वारा राज्य किया, तो जो लोग अनुग्रह और धर्म रूपी वरदान बहुतायत से पाते हैं वे एक मनुष्य के, अर्थात यीशु मसीह के द्वारा अवश्य ही अनन्त जीवन में राज्य करेंगे।

कृपा से बचे

विश्वास

रोमियो 4:4 काम करने वाले की मजदूरी देना दान नहीं, परन्तु हक समझा जाता है। 5 परन्तु जो काम नहीं करता वरन भक्तिहीन के धर्मी ठहराने वाले पर विश्वास करता है, उसका विश्वास उसके लिये धामिर्कता गिना जाता है

रोमियो 7:6 परन्तु जिस के बन्धन में हम थे उसके लिये मर कर अब व्यवस्था से ऐसे छूट गए, कि लेख की पुरानी रीति पर नहीं, वरन आत्मा की नई रीति पर सेवा करते हैं॥

कृपा से बचे

विश्वास: पाप प्रभाव अनुग्रह

  • अनुग्रह पाप का लाइसेंस नहीं है, यह पाप से स्वतंत्रता है

  • पाप का स्तर हमारे जीवन में अनुग्रह का स्तर कम करता है।

अनुग्रह की शक्ति मसीह की उपस्थिति में पवित्रता की खोज के माध्यम से जारी की जाती है

पूर्णता के लिए बलिदान

आत्मसमर्पण

रोमियो 12:1 इसलिये हे भाइयों, मैं तुम से परमेश्वर की दया स्मरण दिला कर बिनती करता हूं, कि अपने शरीरों को जीवित, और पवित्र, और परमेश्वर को भावता हुआ बलिदान करके चढ़ाओ: यही तुम्हारी आत्मिक सेवा है।

बलिदान आराधना है

पूर्णता के लिए बलिदान

आत्मसमर्पण

रोमियो 6:12 इसलिये पाप तुम्हारे मरनहार शरीर में राज्य न करे, कि तुम उस की लालसाओं के आधीन रहो। 13 और न अपने अंगो को अधर्म के हथियार होने के लिये पाप को सौंपो, पर अपने आप को मरे हुओं में से जी उठा हुआ जानकर परमेश्वर को सौंपो, और अपने अंगो को धर्म के हथियार होने के लिये परमेश्वर को सौंपो। 14 और तुम पर पाप की प्रभुता न होगी, क्योंकि तुम व्यवस्था के आधीन नहीं वरन अनुग्रह के आधीन हो॥

पूर्णता के लिए बलिदान

बुद्धि के नये हो जाने

रोमियो 12:2 और इस संसार के सदृश न बनो; परन्तु तुम्हारी बुद्धि के नये हो जाने से तुम्हारा चाल-चलन भी बदलता जाए, जिस से तुम परमेश्वर की भली, और भावती, और सिद्ध इच्छा अनुभव से मालूम करते रहो॥

पूर्णता के लिए बलिदान – नवीनीकृत मन

रोमियो 8:26 इसी रीति से आत्मा भी हमारी दुर्बलता में सहायता करता है, क्योंकि हम नहीं जानते, कि प्रार्थना किस रीति से करना चाहिए; परन्तु आत्मा आप ही ऐसी आहें भर भरकर जो बयान से बाहर है, हमारे लिये बिनती करता है। 27 और मनों का जांचने वाला जानता है, कि आत्मा की मनसा क्या है क्योंकि वह पवित्र लोगों के लिये परमेश्वर की इच्छा के अनुसार बिनती करता है।

पूर्णता के लिए बलिदानपाप के खिलाफ संघर्ष

रोमियो 7:24 मैं कैसा अभागा मनुष्य हूं! मुझे इस मृत्यु की देह से कौन छुड़ाएगा?

पूर्णता के लिएबलिदान

रोमियो 5:3 केवल यही नहीं, वरन हम क्लेशों में भी घमण्ड करें, यही जानकर कि क्लेश से धीरज। 4 ओर धीरज से खरा निकलना, और खरे निकलने से आशा उत्पन्न होती है। 5 और आशा से लज्ज़ा नहीं होती, क्योंकि पवित्र आत्मा जो हमें दिया गया है उसके द्वारा परमेश्वर का प्रेम हमारे मन में डाला गया है

पूर्णता के लिएबलिदान

वरदान साझा करें

रोमियो 10:14 फिर जिस पर उन्होंने विश्वास नहीं किया, वे उसका नाम क्योंकर लें? और जिस की नहीं सुनी उस पर क्योंकर विश्वास करें? 15 और प्रचारक बिना क्योंकर सुनें? और यदि भेजे न जाएं, तो क्योंकर प्रचार करें? जैसा लिखा है, कि उन के पांव क्या ही सुहावने हैं, जो अच्छी बातों का सुसमाचार सुनाते हैं।

वरदान साझा करेंवरदान का उपयोग करें

रोमियो 12:6 और जब कि उस अनुग्रह के अनुसार जो हमें दिया गया है, हमें भिन्न भिन्न वरदान मिले हैं, तो जिस को भविष्यद्वाणी का दान मिला हो, वह विश्वास के परिमाण के अनुसार भविष्यद्वाणी करे। 7 यदि सेवा करने का दान मिला हो, तो सेवा में लगा रहे, यदि कोई सिखाने वाला हो, तो सिखाने में लगा रहे। 8 जो उपदेशक हो, वह उपदेश देने में लगा रहे; दान देनेवाला उदारता से दे, जो अगुआई करे, वह उत्साह से करे, जो दया करे, वह हर्ष से करे।

वरदान साझा करेंप्रेम साझा करें

रोमियो 12:9 प्रेम निष्कपट हो; बुराई से घृणा करो; भलाई मे लगे रहो। 10 भाईचारे के प्रेम से एक दूसरे पर दया रखो; परस्पर आदर करने में एक दूसरे से बढ़ चलो।

उपहार साझा करेंन्यायाधीश मत करो

रोमियो 14:13 सो आगे को हम एक दूसरे पर दोष न लगाएं पर तुम यही ठान लो कि कोई अपने भाई के साम्हने ठेस या ठोकर खाने का कारण न रखे।

उपहार साझा करेंन्यायाधीश मत करो

हम सभी पापी हैं

सबसे अच्छा संत और सबसे खराब पापी के बीच अंतर मुख्यतः विश्वास के स्तर पर है। पाप के स्तर पर अंतर परमेश्वर की धार्मिकता के सामने सिरदर्द है

वरदान साझा करेंअंतर पहचानना

रोमियो 16:17 अब हे भाइयो, मैं तुम से बिनती करता हूं, कि जो लोग उस शिक्षा के विपरीत जो तुम ने पाई है, फूट पड़ने, और ठोकर खाने के कारण होते हैं, उन्हें ताड़ लिया करो; और उन से दूर रहो

वरदान साझा करेंअंतर पहचानना

रोमियो 16:18 क्योंकि ऐसे लोग हमारे प्रभु मसीह की नहीं, परन्तु अपने पेट की सेवा करते है; और चिकनी चुपड़ी बातों से सीधे सादे मन के लोगों को बहका देते हैं।

19 तुम्हारे आज्ञा मानने की चर्चा सब लोगों में फैल गई है; इसलिये मैं तुम्हारे विषय में आनन्द करता हूं; परन्तु मैं यह चाहता हूं, कि तुम भलाई के लिये बुद्धिमान, परन्तु बुराई के लिये भोले बने रहो।

चर्चा

  • मसीह को स्वीकार करने के बाद हम कितना बदल गए हैं? हमारे करीब वाले लोगों के बारे में सोचें अपने बारे में सोचो। (यानी हम कितना कम नाराज, अधीर, स्वार्थी, आदि) प्रतिबिंबित करें।

  • हमारे जीवन में एक बड़ा परिवर्तन लाने के लिए हम क्या कदम उठा सकते हैं?

  • हम झूठे ईसाई और ईसाई नेताओं पर समझदारी की कमी क्यों करते हैं?

  • इस बात पर फैसला किए बिना हम कैसे समझ सकते हैं कि केवल एक “शेष” सच है?

Related Posts

रोमियो Romans Hindi

पौलुस इस पत्र में वैश्विक चर्च के लिए शिक्षाओं की नींव रखता है पाप के गुलाम कृपा से बचे पूर्णता के लिए बलिदान वरदान साझा करें चर्चा अक्सर सवाल परिचय...

1 कुरिन्थियों 1 Corinthians Hindi

लोग इसके लिए लड़ते हैं। इसके लिए जिएं। इसके लिए मर जाओ। सोने की तलाश कभी बंद नहीं होती। फिर भी कितने लोग इसका आनंद लेते हैं? कितनी देर से? पौलुस ने...

2 कुरिन्थियों 2 Corinthians

पौलुस परमेश्वर के आगामी अनुग्रह के साथ अपने संघर्ष और कमजोरी को साझा करता है।2 कुरिन्थियों 4:7 परन्तु हमारे पास यह धन मिट्ठी के बरतनों में रखा है,...

गलतियों Galations Hindi

हम इसे सुनते हैं, हम इसे जानते हैं, हम इसे गाते हैं, हम इसे कहते हैं। लेकिन क्या हम वास्तव में इसे जीते हैं? जिस क्षण हम अपने पुराने स्वभाव को दफन...

इफिसियों Ephesians Hindi

उत्पीड़न के बीच इफिसियों को फलदायी जीवन बनाए रखना पड़ा। ईश्वर हमें बेहतर सफल होने के लिए प्रेरित कर रहा है।परिचय महान भाग्य उत्तम संगति असीम क्षमता...

फिलिप्पियों Philippians Hindi

पौलुस, फिलीपिंसियों को प्रोत्साहित करता है और हमें "मसीह यीशु के समान मानसिकता रखता है" के लिए मार्गदर्शन करता है। एक मन जो विनम्र, सामंजस्यपूर्ण,...

कुलुस्सियों Colossians Hindi

परमेश्वर चाहता है कि हम आध्यात्मिक शिशुओं से पूर्ण परिपक्वता में विकसित हों। सही सिद्धांत, मजबूत नींव, अच्छा नेतृत्व परिपक्वता के प्रमुख गुण हैं।  ...

1 थिस्सलुनीकियों 1 Thessalonians Hindi

थिस्सलुनीकियों के लिए पौलुस का संदेश और मॉडल गंभीर विरोध के बावजूद मकिदुनिया, अखया और अन्य स्थानों में विश्वासियों के माध्यम से फैलता है। पृष्ठभूमि...

2 थिस्सलुनीकियों 11 Thessalonians Hindi

अंत समय के संकेत क्या हैं? जबकि दुष्ट दुनिया की सभी अच्छाईयों को चट कर रहे हैं, मसीह के राजसी आगमन और सबसे शक्तिशाली अनिष्ट शक्तियों पर विजय का...

1 तीमुथियुस 1 Timothy Hindi

पौलुस तीमुथियुस से कहता है कि वह अपने और चर्च के भीतर आध्यात्मिक अनुशासन बनाए रखे और “फिट” रहे। आध्यात्मिक योग्यता: शुद्ध विवेक आध्यात्मिक दुर्बलता:...

2 तीमुथियुस 11 Timothy Hindi

यह शायद पौलुस का अंतिम पत्र है क्योंकि वह शहादत की आशा करता है। वफादार कुछ को छोड़कर ठंडा और सुनसान, वह अभी भी विजयी है। वह वफादार नेताओं को...

तीतुस Titus Hindi

पौलुस तीतुस को एक दोहरी पकड़ पाने के लिए प्रोत्साहित करता है - खुद पर और संदेश पर एक अच्छी पकड़। सारांश उद्देश्य परिचय शुभकामना जिम्मेदार जगाना...

फिलेमोन Philemon Hindi

सबसे छोटे अक्षरों में से एक, यह सबसे शक्तिशाली में से एक बना हुआ है।  गहरी समझ से यह एक महान नेता के विकास पर  समझ प्रदान करता है।परिचय पौलुस की...