प्रेरितों के काम - अत्यधिक विरोध, अत्यधिक प्रभाव

प्रेरितों की पुस्तक निर्भीक शिष्यों को साहसिक प्रेरितों के रूप में दिखाती है।

सारांश

डाक्टर लूका, एक रोमीय द्वारा लिखित पुस्तक ; प्रमुख घटनाओं है जैसे कि:

  • चर्च का जन्म, पिन्तेकुस

  • पतरस प्रमुख नेता बढ़ रहा है

  • उनकी दृष्टि अन्यजातियों को सुसमाचार फैलाने के लिए

  • शाऊल (पौलुस) का धर्म-परिवर्तन

  • पौलुस की पहली और दूसरी मिशनरी यात्राएं, यरूशलेम से परे फैली सुसमाचार

  • सुसमाचार आगे पश्चिम में यूरोपीय क्षेत्रों तक पहुंचता है। तीसरे मिशनरी यात्रा

  • पौलुस की यरूशलेम की यात्रा, उसकी गिरफ्तारी, परीक्षण के लिए रोम की मुश्किल यात्रा [1]

परिचय

प्रेरितों के काम की पुस्तक में पता चलता है:

  • भययोग्य चेले से साहसी प्रेरितों

  • यहूदियों से अन्यजातियों पर

  • यरूशलेम में अंतरराष्ट्रीय चर्च से वैश्विक चर्च

  • याजकों के माध्यम से परमेश्वर तक पहुँच, असीमित पहुंच के लिए

  • यहूदियों के रूप में ईसाई लोगों से ईसाई लोगों सब राष्ट्रों, भाषाओं, संस्कृतियों में

अत्यधिक प्रभाव

प्रेरितों के काम 1:8

जब पवित्र आत्मा तुम पर आएगा तब:

  • तुम सामर्थ पाओगे;

  • और मेरे गवाह होगे

  • और दुनिया तक पहुंचें 

अत्यधिक प्रभाव

प्रेषितों की शिक्षा दुनिया भर में जंगली आग की तरह फैल गई । क्या इस प्रभाव का कारण बना?

अत्यधिक प्रभाव

शुरुआती कलीसिया में अत्यधिक था:

  • परमेश्वर की उपस्थिति के माध्यम से शक्ति

  • एकता

  • सामर्थ

  • अनुशासन

  • बहादुरी

  • ध्यान केंद्रित/ फोकस

  • विरोध

  • जोखिम

जिसके परिणामस्वरूप – अत्यधिक प्रभाव

अत्यधिक सामर्थ

प्रेरितों के काम 4:33 और प्रेरित बड़ी सामर्थ से प्रभु यीशु के जी उठने की गवाही देते रहे और उन सब पर बड़ा अनुग्रह था।

अत्यधिक एकता

प्रेरितों के काम 4:32 और विश्वास करने वालों की मण्डली एक चित्त और एक मन के थे यहां तक कि कोई भी अपनी सम्पति अपनी नहीं कहता था, परन्तु सब कुछ साझे का था

एक चित्त होकर प्रार्थना में लगे रहे – प्रेरितों के काम 1:14

प्रेरितों के काम 2:46 और वे प्रति दिन एक मन होकर मन्दिर में इकट्ठे होते थे, और घर घर रोटी तोड़ते हुए आनन्द और मन की सीधाई से भोजन किया करते थे।

यीशु की प्रार्थना

यूहन्ना – 17:20 मैं केवल इन्हीं के लिये बिनती नहीं करता, परन्तु उन के लिये भी जो इन के वचन के द्वारा मुझ पर विश्वास करेंगे, कि वे सब एक हों। 21 जैसा तू हे पिता मुझ में हैं, और मैं तुझ में हूं, वैसे ही वे भी हम में हों, इसलिये कि जगत प्रतीति करे, कि तू ही ने मुझे भेजा। 22 और वह महिमा जो तू ने मुझे दी, मैं ने उन्हें दी है कि वे वैसे ही एक हों जैसे की हम एक हैं। 23 मैं उन में और तू मुझ में कि वे सिद्ध होकर एक हो जाएं, और जगत जाने कि तू ही ने मुझे भेजा, और जैसा तू ने मुझ से प्रेम रखा, वैसा ही उन से प्रेम रखा

विश्वासियों के बीच एकता का क्या महत्व था?

क्या विश्वासियों के बीच एकता के लिए मसीह की प्रार्थना उत्तरदायी थी?

एक वैश्विक चर्च में, हम एकता के लिए एक साथ कैसे काम कर सकते हैं?

अत्यधिक अनुशासन

प्रेरितों के काम 5:4 जब तक वह तेरे पास रही, क्या तेरी न थी? और जब बिक गई तो क्या तेरे वश में न थी? तू ने यह बात अपने मन में क्यों विचारी? तू मनुष्यों से नहीं, परन्तु परमेश्वर से झूठ बोला। 5 ये बातें सुनते ही हनन्याह गिर पड़ा, और प्राण छोड़ दिए; और सब सुनने वालों पर बड़ा भय छा गया।

प्रेरितों के काम 5:9 पतरस ने उस से कहा; यह क्या बात है, कि तुम दोनों ने प्रभु की आत्मा की परीक्षा के लिये एका किया है देख, तेरे पति के गाड़ने वाले द्वार ही पर खड़े हैं, और तुझे भी बाहर ले जाएंगे। 10 तब वह तुरन्त उसके पांवों पर गिर पड़ी, और प्राण छोड़ दिए: और जवानों ने भीतर आकर उसे मरा पाया, और बाहर ले जाकर उसके पति के पास गाड़ दिया।

अत्यधिक साहस

प्रेरितों के काम 4:19 परन्तु पतरस और यूहन्ना ने उन को उत्तर दिया, कि तुम ही न्याय करो, कि क्या यह परमेश्वर के निकट भला है, कि हम परमेश्वर की बात से बढ़कर तुम्हारी बात मानें।

प्रेरितों के काम 4:29 अब, हे प्रभु, उन की धमकियों को देख; और अपने दासों को यह वरदान दे, कि तेरा वचन बड़े हियाव से सुनाएं

प्रेरितों के काम 4:31 जब वे प्रार्थना कर चुके, तो वह स्थान जहां वे इकट्ठे थे हिल गया, और वे सब पवित्र आत्मा से परिपूर्ण हो गए, और परमेश्वर का वचन हियाव से सुनाते रहे

अत्यधिक ध्यान केंद्रित

प्रेरितों के काम

  • 2:42 और वे प्रेरितों से शिक्षा पाने, और संगति रखने में और रोटी तोड़ने में और प्रार्थना करने में लौलीन रहे

  • 5:42 और प्रति दिन मन्दिर में और घर घर में उपदेश करने, और इस बात का सुसमाचार सुनाने से, कि यीशु ही मसीह है न रूके

  • 6:2,3 इसलिये हे भाइयो, अपने में से सात सुनाम पुरूषों को जो पवित्र आत्मा और बुद्धि से परिपूर्ण हों, चुन लो, कि हम उन्हें इस काम पर ठहरा दें।

अत्यधिक विरोध

अमेरिका में गॉब्रो मच्छली के परिवहन की कहानी

  • ठंड काम नहीं किया

  • टैंकों में उन्हें जीवित रखने के बदले बदतर परिणाम थे

अत्यधिक विरोध

अंत में सिंघाड़ा, गॉब्रो मछली का सबसे बड़ा दुश्मन टैंकों में पेश किया गया था

सिंघाड़ा ने पीछा किया और उन्हें पहले की तुलना में बेहतर रखा

अत्यधिक विरोध

प्रेरितों के काम 8:3 शाऊल कलीसिया को उजाड़ रहा था; और घर घर घुसकर पुरूषों और स्त्रियों को घसीट घसीट कर बन्दीगृह में डालता था॥ 4 जो तित्तर बित्तर हुए थे, वे सुसमाचार सुनाते हुए फिरे

 

 

 

विरोध सुसमाचार को बढ़ाता है

अत्यधिक विरोध: आंतरिक- यहूदियों से

प्रेरितों के काम 7:51 जैसा तुम्हारे बाप दादे करते थे, वैसे ही तुम भी करते हो। 52 भविष्यद्वक्ताओं में से किस को तुम्हारे बाप दादों ने नहीं सताया, और उन्होंने उस धर्मी के आगमन का पूर्वकाल से सन्देश देने वालों को मार डाला, और अब तुम भी उसके पकड़वाने वाले और मार डालने वाले हुए।

अत्यधिक विरोध: आंतरिक- यहूदियों से

प्रेरितों के काम 8:5 जब सीलास और तीमुथियुस मकिदुनिया से आए, तो पौलुस वचन सुनाने की धुन में लगकर यहूदियों को गवाही देता था कि यीशु ही मसीह है। 6 परन्तु जब वे विरोध और निन्दा करने लगे, तो उस ने अपने कपड़े झाड़कर उन से कहा; तुम्हारा लोहू तुम्हारी गर्दन पर रहे: मैं निर्दोष हूं: अब से मैं अन्यजातियों के पास जाऊंगा।

अत्यधिक विरोध - भविष्यवाणी

यूहन्ना 15:20 जो बात मैं ने तुम से कही थी, कि दास अपने स्वामी से बड़ा नहीं होता, उस को याद रखो: यदि उन्होंने मुझे सताया, तो तुम्हें भी सताएंगे; यदि उन्होंने मेरी बात मानी, तो तुम्हारी भी मानेंगे। यूहन्ना 16:2 वे तुम्हें आराधनालयों में से निकाल देंगे, वरन वह समय आता है, कि जो कोई तुम्हें मार डालेगा वह समझेगा कि मैं परमेश्वर की सेवा करता हूं। 

अत्यधिक जोखिम

क्यों कभी कभी संरक्षित है?

कभी-कभी चमत्कारी पलायन, कभी-कभी हत्या, कारावास, मृत्यु

पौलुस अग्रिप्पा द्वारा बचाया जा सकता था लेकिन रोम की सजा सुनाई गई थी

वैश्विक इंजीलवाद के लिए बीज लगाए गए थे

}परमेश्वर हमेशा नियंत्रण में हैं

}जहां उच्च जोखिम होता है वहां उच्च लाभ होता है

Where there is high risk there is high gain

अत्यधिक जोखिम

उन्होंने अपने जीवन को जोखिम पर रखा ।

प्रेरितों के काम 15:26 ये तो ऐसे मनुष्य हैं, जिन्हों ने अपने प्राण हमारे प्रभु यीशु मसीह के नाम के लिये जोखिम में डाले हैं।

 

 

पौलुस ने अपनी जेल का शक्ति घर बनाया गया

चर्चा

1. आप किस अन्य क्रियाएँ प्रेरितों के जीवन में देख सकते हैं?

2. आप क्या सोचते हैं कि आज चर्च का असर सबसे कम है? शक्ति की कमी? प्रभाव? एकता? बहादुरी? साझा करना? अनुशासन? फोकस? विपक्ष का सामना करने में असमर्थता? जोखिम? कोई दूसरा?

3. क्या आपको लगता है कि अपने व्यक्तिगत लक्ष्यों है?

4. मसीह के लिए अपने प्रभाव को सुधारने की क्या परिवर्तन करने है?

References

1.biblehub.com

Related Posts

1 नया नियम सारांश

इजरायल और विश्व के लिए एकमात्र आशा यीशु है - पूर्ण नेताबेबीलोन की कैद - 600 ईसा पूर्व मौन वर्ष - 445 ईसा पूर्व चर्च की आयु - ईस्वी 30 उत्साह / क्लेश / दूसरा आना [१] ईसा मसीह का 1000 साल का शासनसुसमाचार: विभिन्न विचार के माध्यम से यीशु की जिंदगी, शिक्षा और बलि के मौत...

2 मत्ती – पृथ्वी पर परमेश्वर का राज्य

मत्ती ने लंबे समय से प्रतीक्षित राजा को पृथ्वी पर उसका साम्राज्य लाने का परिचय दिया ।सारांश ◦परिचय - पृथ्वी पर ◦परमेश्वर का राज्य ◦राजा का वंश ◦आगे आगे पुकारनेवाला राजदूत ◦राज्य युद्ध ◦राज्य मूल्य ◦राज्य लोग (चेले) ◦राज्य की कुंजी ◦राजा वापस माल ◦द किंग रीडइम्स ◦राजा...

3 मरकुस – मसीह, मुख्य नेव का पत्थर

चर्च मसीह की नींव पर बनाया गया है।सारांश मरकुस की पृष्ठभूमि संदर्भ- मरकुस, यशायाह 28:16, मरकुस 12:10,11 मसीहा चमत्कार मंत्रालय की यात्रा बनानेवाला द्वारा अस्वीकृत खदान में अन्य पत्थरों हम किस पत्थरों से बने हैं?मुख्य कोने का सिरा वह संदर्भ है जिस पर पूरी निर्माण होता...

4 लूका – मनुष्य का पुत्र खोज रहा है और बचाता है

यह पुस्तक इसी कारण से ईसा मसीह की लिखी गई हैलूका 1:4 कि तू यह जान ले, कि वे बातें जिनकी तू ने शिक्षा पाई है, कैसी अटल हैं॥सारांश परिचय मनुष्य का पुत्र ढूंढ़ने को आया है और उन का उद्धार करने खोए हुओं चर्चाउद्देश्य यह पुस्तक लिखा गया था "ताकि आप सही सच्चाई जान सकें"...

5 यूहन्ना – बहुतायत जीवन

​यूहन्ना  "विश्वास" (लगभग 98 बार) पर जोर देता है, या विश्वास "जीवन" (लगभग 36 बार) प्राप्त करने के लिए है।परिचय सात चमत्कार सात “मैं हूँ” विश्वास स्वरूप, जीवन सारांश चर्चायूहन्ना की सुसमाचार: "विश्वास" 98 बार, "जीवन" 36 बार मसीह को परमेश्वर का पुत्रा के रूप में चित्रित...